NDTV Khabar

मेघालय: दो सप्ताह से खदान में फंसे हैं 15 मजदूर, अभी तक नहीं हो पाया कोई संपर्क, बढ़ रहे पानी की वजह से रोकना पड़ा बचाव कार्य

खदान में अभी 70 फीट पानी भरा है, जिसकी वजह से राहत कार्य में बाधा आ रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मेघालय: दो सप्ताह से खदान में फंसे हैं 15 मजदूर, अभी तक नहीं हो पाया कोई संपर्क, बढ़ रहे पानी की वजह से रोकना पड़ा बचाव कार्य

13 दिसंबर से खनिक फंसे हुए हैं.

खास बातें

  1. पंपों से निकाला जा रहा है पानी
  2. पास में बह रही नदी बनी बाधा
  3. बढ़ रहा है पानी का स्तर
शिलांग:

मेघालय के पूर्वी जैंतिया पहाड़ी जिले के लुमथरी गांव के कासन क्षेत्र में 370 फुट गहरे अवैध खदान में फंसे 15 खनिकों को बाहर निकालने का काम को अस्थायी रूप से रोक दिया गया. ये खनिक 13 दिसंबर से फंसे हुए हैं. इस खदान से पानी बाहर निकालने के लिए दो पंपों का सहारा लिया जा रहा था. लेकिन अधिकारियों का कहना है कि करीब में बह रही नदी की वजह से खदान में पानी बढ़ रहा है.

जिला प्रशासन और एनडीआरएफ की टीम पिछले तीन दिनों से 100 हाउसपावर वाले पंप आने का इंतजार कर रही हैं. अधिकारियों का कहना है कि सरकार ने अभी तक पंप नहीं भेजे हैं.

आंध्र प्रदेश : पत्थर की खदान में शक्तिशाली विस्फोट, दस मजदूरों की मौत


एनडीआरएफ के कमांडेंट एसके शास्त्री ने एनडीटीवी को बताया, 'हमें अभी तक कोई भी जिंदा और मृत नहीं मिला है. हम लोग राहत कार्य के लिए सरकार की मदद का इंतजार कर रहे हैं.' अभी तक खनिकों से कोई संपर्क नहीं हो पाया है, लेकिन उनके परिवारों ने अभी भी उम्मीद नहीं खोई है.

mk5ffrm

खदान में अभी 70 फीट पानी भरा है, जिसकी वजह से राहत कार्य में बाधा आ रही है. शास्त्री ने बताया, 'पिछले दो सप्ताह से पानी कम नहीं हुआ. हमारे गोताखोर 40 फीट तक जा सकते हैं, ऐसे में पानी को बाहर निकालने के लिए हमें पंप चाहिएं और राज्य सरकार से मदद की जरूरत है.'

मध्य प्रदेश में मजदूर को मिला बहुमूल्य हीरा, देखते-देखते बन गया लखपति, जानें पूरा मामला

सूत्रों के मुताबिक खदान में एक पास की खदान और नजदीक में बह रही नदी से पानी घुस रहा है. इसमें बचे एक खनिक ने बताया, 'मैं जमीन से करीब पांच फीट दूर था, तभी मैंने देखा कि वहां काफी हवा आ रही है और फिर पानी आता देखा.'

pgefuppg

मेघालय में खनन पर साल 2014 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने रोक लगा दी थी. यह आदेश तब दिया गया था, जब स्थानीय समुदाय ने कहा था कि खनन की वजह से पानी के स्रोत प्रदूषित हो रहे हैं. लेकिन इसके बावजूद भी वहां खनन का काम अवैध रूप से जारी है. 

टिप्पणियां

झारखंड : कोयला खदान में माइनिंग मशीन का ब्रेक फेल, चार की मौत, 11 घायल

VIDEO- मेघालयः खदान में फंसे मजदूर, रेस्क्यू जारी



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement