'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में पीएम मोदी ने किया अनुच्छेद 370 हटाने का जिक्र तो भड़कीं महबूबा मुफ्ती, कहा - यह इस देश की...

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि इस फैसले को लेकर अन्य जगहों पर खुशी मनाई जा रही है लेकिन राज्य (जम्मू-कश्मीर) के लोग ही इससे खुश नहीं हैं, जहां इसका फायदा होना सबसे ज्यादा होने की उम्मीद की जा रही है.

'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में पीएम मोदी ने किया अनुच्छेद 370 हटाने का जिक्र तो भड़कीं महबूबा मुफ्ती, कहा - यह इस देश की...

महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

खास बातें

  • अनुच्छेद 370 हटाए जाने से कश्मीर के लोग खुश नहीं
  • पीएम मोदी के बयान पर भड़कीं महबूबा मुफ्ती
  • हाउडी मोदी कार्यक्रम में पीएम मोदी ने किया था अनुच्छेद 370 का जिक्र
नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीप अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में पीएम मोदी के भाषण पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि ऐसा कहा जा रहा है कि इस फैसले को इसलिए लिया गया ताकि जम्मू और कश्मीर के "विशेष हितों" को सुरक्षित किया जा सके, यह इस देश की विडंबना है. इस फैसले को लेकर अन्य जगहों पर खुशी मनाई जा रही है लेकिन राज्य (जम्मू-कश्मीर) के लोग ही इससे खुश नहीं हैं, जहां इसका फायदा होना सबसे ज्यादा होने की उम्मीद की जा रही है.  इन सब के बीच बड़े उन्माद की मदद से इस पूरे निर्णय को सही साबित करने की कोशिश की जा रही है. 

गौरतलब है कि यह कोई पहली बार नहीं है कि जब महबूबा मुफ्ती ने अनुच्छेद 370 हटाने पर पीएम मोदी की आलोचना की हो. उन्होंने अनुच्छेद 370 हाटने से पहले कहा था कि जब बात जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे की हो तो भाजपा को आग से नहीं खेलना चाहिए. उन्होंने साथ ही चेतावनी दी कि अनुच्छेद 370 खत्म करना, राज्य की भारत से आजादी होगी. महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने कहा था कि यदि आप जम्मू कश्मीर को अनुच्छेद 370 से मुक्त करते हैं तो आप राज्य को देश से भी मुक्त करेंगे. मैंने कई बार कहा था कि अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर को देश से जोड़ता है. जब आप इस सेतु को तोड़ते हैं, भारत राज्य पर अपनी वैधता भी खो देगा. वह कब्जा करने वाली ताकत बन जाएगा.' जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा के घोषणा पत्र पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रही थीं, जिसमें पार्टी ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है.उन्होंने ट्विटर पर लिखा था कि न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिंदुस्तान वालों, तुम्हारी दास्तान तक भी न होगी दास्तानों में.

यह भी पढ़ें: फारूक अब्दुल्ला ने फिर की 'कश्मीर की आजादी' की बात, कहा- देखता हूं आर्टिकल 370 हटाने के बाद आपका झंडा कौन उठाता है

महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने कहा था कि यदि आप जम्मू कश्मीर को अनुच्छेद 370 से मुक्त करते हैं तो आप राज्य को देश से भी मुक्त करेंगे. मैंने कई बार कहा था कि अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर को देश से जोड़ता है. जब आप इस सेतु को तोड़ते हैं, भारत राज्य पर अपनी वैधता भी खो देगा. वह कब्जा करने वाली ताकत बन जाएगा.' जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा के घोषणा पत्र पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रही थीं, जिसमें पार्टी ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है.

यह भी पढ़ें: BJP के मैनिफेस्टो पर महबूबा मुफ्ती का हमला, Tweet कर कहा- नहीं तो टुकड़े-टुकड़े गिरोह...

महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti News) ने कहा था कि भाजपा मोर्चों पर असफल हुई है, चाहे वह बेरोजगारी हो, किसानों का मुद्दा हो या महंगाई हो. अब वे मुद्दे तलाश रहे हैं, जिनका इस्तेमाल वे वोट जुटाने के लिए कर सकें.' पीडीपी नेता ने चेतावनी दी कि भाजपा को आग से खेलने से परहेज करना चाहिए. उन्होंने कहा था कि राज्य के विशेष दर्जे में कोई भी बदलाव पूरे दक्षिण एशिया को खतरे में डाल सकता है. उन्होंने कहा था कि जम्मू कश्मीर पहले ही विस्फोटक के ढेर पर है और हमने उसकी झलक पुलवामा में देखी. यदि भाजपा ऐसे बयान देना बंद नहीं करती है और ऐसे इरादे (अनुच्छेद 370 के बारे में) नहीं छोड़ती है तो इससे न केवल जम्मू कश्मीर बल्कि पूरा क्षेत्र जलेगा.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: बीजेपी के मैनिफेस्टो को लेकर भड़के दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, कहा- आप तो हमेशा झूठ ही...

उन्होंने कहा था कि इसलिए मेरी भाजपा को चेतावनी है कि वह आग से खेलना बंद करे. जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में विस्फोटक है. यदि आपने चिंगारी लगाई, सब कुछ आग की लपटों में होगा...कोई जम्मू कश्मीर और भारत नहीं होगा.' इससे पहले मुफ्ती ने कहा था कि अनुच्छेद 370 समाप्त होने पर भारतीय संविधान राज्य में लागू नहीं होगा. उन्होंने एक ट्वीट किया था कि अदालत में समय क्यों गंवायें. भाजपा द्वारा अनुच्छेद 370 समाप्त करने का इंतजार करें. वह हमें स्वत: ही चुनाव लड़ने से रोक देगा, क्योंकि भारतीय संविधान जम्मू कश्मीर में लागू नहीं होगा.'