NDTV Khabar

अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद कश्मीर में बाल और दाढ़ी कटवाना भी हुआ मुश्किल, लोग बोले हम ‘बाल वाले बबून’ हो गए हैं

युवाओं में दाढ़ी बढ़ाने का शौक भले ही ट्रेंड में है और इसे काफी युवा अपना भी रहे हैं लेकिन कश्मीर में यूथ की बढ़ी दाढ़ी की वजह फैशन कम मजबूरी ज्यादा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद कश्मीर में बाल और दाढ़ी कटवाना भी हुआ मुश्किल, लोग बोले हम ‘बाल वाले बबून’ हो गए हैं

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

युवाओं में दाढ़ी बढ़ाने का शौक भले ही ट्रेंड में है और इसे काफी युवा अपना भी रहे हैं लेकिन कश्मीर में यूथ की बढ़ी दाढ़ी की वजह फैशन कम मजबूरी ज्यादा है. केंद्र सरकार द्वारा पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित क्षेत्रों में बांटने के निर्णय के बाद घाटी के लोगों को अपने बाल कटवाने और दाढ़ी बनवाने के लिए हजाम ढूंढना मुश्किल हो गया है. कुपवाड़ा जिले में सरकारी कर्मचारी शफत अहमद ने पीटीआई को फोन पर बताया, ‘‘मैं इतना अस्त-व्यस्त कभी नहीं दिखता था. मैंने करीब दो महीने से अपने बाल नहीं कटाए हैं. हजाम ढूंढना मुश्किल है. या तो वे सब भाग चुके हैं या फिर इतना भयभीत हैं कि अपनी दुकान नहीं खोल रहे हैं.'

कश्मीर को लेकर पाकिस्तानी मंत्री ने कहा- दुनिया पाकिस्तान पर नहीं बल्कि भारत पर विश्वास करती है


गांदरबल जिले में पत्रकारिता के छात्र जाविद रेशी ने कहा, ‘‘अगले हफ्ते मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलना है लेकिन मुझे लगता है कि इसे रद्द करना पड़ेगा. उसे बढ़ी हुई दाढ़ी और लंबे बाल पसंद नहीं हैं. वह इसे भद्दा समझती है.' कश्मीर में अधिकतर सैलून घाटी के बाहर के लोग चलाते हैं जिनमें अधिकतर उत्तरप्रदेश और बिहार के हैं. घाटी के लगभग सभी बड़े शहरों और नगरों में सैलून बाहरी लोग ही चलाते हैं.ये विशेषज्ञ हेयर ड्रेसर नई हेयर स्टाइल और फैशन ट्रेंड के परिचायक बन गए हैं और उन्होंने स्थानीय हजामों को इस व्यवसाय से लगभग बाहर कर दिया है. 

जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर ट्विटर पर पकड़ा गया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा झूठ

टिप्पणियां

कश्मीरी हेयर ड्रेसर संगठन के मुताबिक कश्मीर के बाहर के हजामों द्वारा संचालित कम से कम 20 हजार दुकान बंद हैं क्योंकि पांच अगस्त के बाद वे घाटी से भाग गए हैं. सरकारी शिक्षक काजिर मोहम्मद ने कहा, ‘‘दाढ़ी से मेरे चेहरे की गरिमा नहीं बढ़ती. साथ ही मुझे इन सफेद बालों को भी रंगवाना है... सड़कों पर अच्छे से बाल कटाए और दाढ़ी बनवाए व्यक्ति नजर नहीं आ रहे हैं. हम सभी यहां बड़े बालों वाले बबून (बंदर की एक प्रजाति) हैं.''  

Video: जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में हथियारों से भरा ट्रक पकड़ा गया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement