NDTV Khabar

#MeToo: मोदी सरकार के मंत्री बोले...तो अकबर को इस्तीफा दे देना चाहिए...

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि अगर केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ लगे यौन दुराचार के आरोप सच साबित होते हैं तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
#MeToo: मोदी सरकार के मंत्री बोले...तो अकबर को इस्तीफा दे देना चाहिए...

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले. (फाइल फोट)

खास बातें

  1. 'अकबर के खिलाफ आरोप सच साबित होने पर उन्हें इस्तीफा देना चाहिए'
  2. अठावले ने कहा- अगर कोई दोषी है, तो उस व्यक्ति को सजा मिलनी चाहिए
  3. महिला का अपमान करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए
पुणे: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि अगर केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ लगे यौन दुराचार के आरोप सच साबित होते हैं तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए. एक संवाददाता सम्मेलन में सवालों के जवाब में उन्होंने यह भी चेताया कि 'मी टू' अभियान को निराधार आरोप लगाने का मंच न बना लिया जाए. केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अठावले ने कहा कि अगर अकबर दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें केंद्रीय मंत्री के तौर पर इस्तीफा दे देना चाहिए.

यह भी पढ़ें : #MeToo: विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने तोड़ी चुप्पी, अपने ऊपर लगे आरोपों के बारे में कही यह बात...

उन्होंने कहा, अगर कोई महिला का अपमान कर रहा है तो ऐसे व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. अगर एमजे अकबर एवं नाना पाटेकर जैसी हस्तियां भी दोषी पाई जाएं जो उनके खिलाफ  भी कार्रवाई होनी चाहिए.' मंत्री ने कहा, 'अगर कोई दोषी है, तो उस व्यक्ति को सजा मिलनी चाहिए, लेकिन मुझे ऐसी आशंका है कि इस मंच का इस्तेमाल किसी को झूठे मामले में फंसाने के लिए भी किया जा सकता है. पुलिस को ऐसे आरोपों की पुष्टि करनी चाहिए.' जहां पाटेकर पर अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने 2008 की एक फिल्म शूटिंग के दौरान उनके साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया वहीं पिछले कुछ दिनों में कई महिलाएं अकबर के पत्रकार रहने के दौरान उनके द्वारा किए गए कथित यौन उत्पीड़न के मामलों के साथ सामने आई हैं.

VIDEO : एमजे अकबर ने आरोपों पर दी यह सफाई


टिप्पणियां
इन आरोपों के इतने सालों बाद सामने आने के प्रश्न पर अठावले ने कहा कि अगर सही से जांच की जाए तो अभी भी सबूत मिल सकते हैं. रिपबल्किन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के नेता ने कहा कि 'मी टू' अभियान के तहत लगाए गए सभी आरोप गंभीर प्रकृति के नहीं है, बल्कि वह अनुचित स्पर्श एवं दुर्व्यवहार से ज्यादा संबंधित हैं.

(इनपुट : भाषा)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement