NDTV Khabar

PM मोदी के संसदीय क्षेत्र पर मंत्री केजे अल्‍फोंस ने उठाए सवाल, कहा- वाराणसी बहुत गंदा है

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में क्या खामियां हैं इसका जवाब उनके पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस ने दे दिया है. अल्फ़ोंस ने कहा कि वाराणसी बहुत गंदा है और यहां सफ़ाई करने की ज़रूरत है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
PM मोदी के संसदीय क्षेत्र पर मंत्री केजे अल्‍फोंस ने उठाए सवाल, कहा- वाराणसी बहुत गंदा है

पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस की फाइल फोटो

खास बातें

  1. वाराणसी में ट्रैफ़िक की समस्या है आवाजाही में दिक्कत होती है
  2. वाराणसी बहुत गंदा है और यहां सफ़ाई करने की ज़रूरत है.
  3. केजे अल्फोंस सोमवार को वाराणसी अपने दो दिवसीय दौरे पर आए थे
नई दिल्ली: पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में क्या खामियां हैं इसका जवाब उनके पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस ने दे दिया है. एक सवाल के जवाब में अल्फ़ोंस ने कहा कि वाराणसी में ट्रैफ़िक की समस्या है आवाजाही में दिक्कत होती है जाम लग जाता है. उन्होंने ये भी कहा कि वाराणसी बहुत गंदा है और यहां सफ़ाई करने की ज़रूरत है.

कैबिनेट का फैसला: इस तरह नीतीश सरकार ने खारिज की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

अपने दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री केजे अल्फोंस ने पीएम के संसदीय क्षेत्र में बड़ा बयान दिया है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 4 साल के कार्यकाल में वाराणसी में हुए विकास कार्यों और स्वच्छता पर ही प्रश्नचिन्ह लगा दिया है. केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री ने कहा कि वाराणसी में हालत बेहद खराब है और ट्रैफिक व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त है और स्वच्छता की स्थिति भी अच्छी नहीं है. गंदगी चारों और फैली है जिसकी वजह से सैलानी कम हो रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर बताया, 'LG अनिल बैजल से क्यों नाराज हैं PM मोदी'

केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री केजे अल्फोंस सोमवार को वाराणसी अपने दो दिवसीय दौरे पर आए थे. यहां आने के बाद उन्होंने बनारस में पर्यटन की दृष्टि से चल रहे तमाम विकास कार्यों का जायजा लिया रामनगर सारनाथ समेत गंगा घाटों व अन्य जगहों पर जाकर उन्होंने स्थलीय निरीक्षण भी किया और आज अधिकारियों वह टूरिस्ट गाइड व ट्रैवलर्स के साथ मीटिंग के बाद उन्होंने कहा कि अभी वाराणसी के सारनाथ में 5,00,000 टूरिस्ट आ रहे हैं जो बहुत कम है. इसको हमें 2 सालों में बढ़ाकर 10,00,000 करना है. यह हमारा सबसे बड़ा उद्देश्य है मैंने सारनाथ और वाराणसी का 2 दिनों तक निरीक्षण किया है और सारनाथ के विकास में पूरा योगदान केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय देगा.  उन्होंने कहा कि मैंने 2 दिन तक वाराणसी का भ्रमण किया और पाया कि यहां पर दिक्कतें बहुत सी हैं. सड़कों पर जाम की स्थिति सबसे बड़ा मुद्दा है स्वच्छता की दिक्कत यहां पर बहुत ज्यादा है गंदा बहुत हैं यहां पर इसको साफ करना है.

PM मोदी बोले, हमने प्रण लिया 2022 तक हर परिवार के पास हो अपना पक्का घर

केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री ने उत्तर प्रदेश में पर्यटन की दृष्टि से अलग-अलग धार्मिक सर्किट पर चल रहे कामों के बाबत बताया कि उत्तर प्रदेश में 6 स्वदेश दर्शन के तहत प्रोजेक्ट चल रहे हैं. इनमें रामायण सर्किट बहुत द सर्किट जैन सर्किट वह तीन अन्य हैं जिनको दिसंबर तक पूरा कर देने के लिए कहा गया है. इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है इसके अलावा सारनाथ व वाराणसी के गंगा घाटों पर भी पर्यटन की दूसरी से कम आम काम होने हैं. हेरिटेज स्थलों पर लाइटिंग बेहतर ढंग से करने की व्यवस्था की जा रही है रामनगर के अलावा वाराणसी के पंचकोशी पर भी पर्यटन की दृष्टि से तमाम काम किए जाएंगे उन्होंने बताया कि रामनगर में म्यूजियम का कलेक्शन बहुत अच्छा है और उसको पर्यटन की दृष्टि से डेवलप किया जाएगा.  

गन्ना किसानों को राहत की उम्मीद, 8,000 करोड़ रुपये के पैकेज का हो सकता है ऐलान

टिप्पणियां
वही जब केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री से गंगा की वर्तमान हालत के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि इस पर हमने गंभीर चर्चा की है तीन सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट पर काम चल रहा है और हमें भरोसा है कि चीजें बेहतर होंगी. वहीं केंद्रीय पर्यटन मंत्री ने यह भी कहा कि गंगा घाट पर किसी इवेंट में गंगा में दूध बढ़ाना और फूल माला लेकर जाना भी गंगा को प्रदूषित कर रहा है, जिसे रोकने की जिम्मेदारी आम लोगों की है. वहीं केंद्रीय मंत्री ने नेपाल और उसके खतरे पर कहा कि केरल में ही सिर्फ के सिम्टम्स मिले हैं. वह भी सिर्फ एक गांव में इस दिशा में वहां की सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर बेहतर काम किया है और इसके प्रति लोगों को अवेयर किया जा रहा है. इस से डरने की कोई जरूरत नहीं है.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement