NDTV Khabar

शराबी ने की छेड़छाड़, पंचायत ने करा दिया पीड़ित लड़की का मुंडन

समुदाय के लोगों ने छेड़छाड़ के आरोपी युवक को सजा देने के बजाय खुद पीड़ित लड़की के चाल चलन को लेकर झूठे लांछन लगाए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शराबी ने की छेड़छाड़, पंचायत ने करा दिया पीड़ित लड़की का मुंडन

छत्तीसगढ़ में छेड़छाड़ की शिकार नाबालिग बैगा आदिवासी लड़की का सर पंचायत ने मुंडवा दिया.

खास बातें

  1. बैगा आदिवासी लड़की का आधा सिर मुंडवा दिया
  2. लड़की के परिवार पर पांच हजार रुपये का अर्थदंड लगाया
  3. पीड़ित के परिवार वालों से शराब व मुर्गे की दावत भी ली गई
रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के गृह जिले कवर्धा के वनांचल ग्राम सेंदूरखार में एक नाबालिग बैगा लड़की का अर्धमुंडन कराने का मामला सामने आया है. गांव के दबंगों ने इस घटना को अंजाम दिया. नाबालिग लड़की के साथ सामाजिक नियमों का हवाला देते हुए यह करतूत की गई है.

नाबालिग लड़की के साथ गांव के ही एक युवक ने शराब के नशे में छेड़छाड़ की थी. इसे लेकर समाज के लोगों ने कड़ी आपत्ति जताई थी, लेकिन इस मामले की शिकायत पुलिस से करने की बजाय जिम्मेदारों द्वारा यह मामला पंचायत के समक्ष रखा गया. इसके बाद समाज के प्रमुखों ने अजीबो-गरीब फरमान सुना दिया.

समाज प्रमुखों ने छेड़छाड़ के आरोपी युवक को सजा देने के बजाय खुद पीड़ित लड़की का चाल चलन ठीक न होने का हवाला दिया. पंचायत ने पीड़ित का सिर आधा मुंडवाने की सजा दे दी. कुछ दिनों तक तो लड़की का पिता इसके लिए राजी नहीं हुआ, लेकिन समाज के डर से उसने पीड़ित का आधा सिर मुंडवा दिया.

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश : टीचरों पर छात्राओं को निर्वस्त्र कर तलाशी लेने का आरोप, पुलिस में मामला दर्ज

पंचायत ने पीड़ित परिवार पर पांच हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया. इतना ही नहीं पीड़ित परिवार वालों से शराब व मुर्गे की दावत भी ली गई. ईटीवी पर मामले का प्रसारण प्रमुखता से किया गया. इसके बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया है. संबंधित थाना प्रभारी को गांव भेजकर रिपोर्ट तलब की गई है.

कवर्धा (कबीरधाम) मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह का गृह जिला है. बता दें कि पीड़िता कक्षा सातवीं की छात्रा बैगा समुदाय की है. बैगा समुदाय में महिलाओं के या लड़कियों के बाल काटना या मुंडन करना सख्त मना है. बावजूद गांव के ही कुछ लोगों ने इस करतूत को अंजाम दिया. पीड़ित लड़की की मां ने बताया कि एक शराबी की करस्तानी की सजा उसकी बेटी को भुगतनी पड़ी है.

यह भी पढ़ें : झारखंड के दुमका में दोस्त के साथ जा रही आदिवासी युवती के साथ चाकू की नोंक पर गैंगरेप

पीड़िता की मां ने बताया कि वह समाज के इस फैसले के पक्ष में नहीं थी. फिर भी सामाजिक दबाव में उसे व परिवार वालों को नतमस्तक होना पड़ा. मामले में गांव के सरपंच भागवत मानिकपुरी का कुछ अलग ही कहना है. वे शराब पीकर लड़की से छेड़छाड़ की घटना को मामूली मानते हैं.

टिप्पणियां
VIDEO : आदिवासी लड़की को बलात्कार के बाद जलाया

सरपंच के पास जब शिकायत आई थी तो उन्होंने घरवालों को समझाकर भेज दिया था. सरपंच का कहना है कि लड़के ने शराब के नशे में यह हरकत की होगी. हालांकि सरपंच ने मुंडन करवाए जाने की घटना को गलत बताया और इसकी जानकारी नहीं होने की बात कही.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement