अल्पसंख्यक आयोग ने कहा, स्वामी को गिरफ्तार करें

खास बातें

  • महाराष्ट्र के राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने कहा कि जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी को उनके चरम दक्षिणपंथी विचारों के लिए गिरफ्तार किया जाए।
Mumbai:

महाराष्ट्र के राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने शनिवार को कहा कि जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी को उनके चरम दक्षिणपंथी विचारों के लिए गिरफ्तार किया जाए। स्वामी ने एक समाचार पत्र में प्रकाशित लेख में अपने विवादास्पद विचार प्रस्तुत किए थे। आयोग के उपाध्यक्ष अब्राहम मथाई ने मुम्बई पुलिस प्रमुख अरूप पटनायक को पत्र लिखकर कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 153(ए) के तहत स्वामी पर आपराधिक मामला दर्ज किया जाए। पत्र में लिखा गया है, डॉ सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा 16 जुलाई, 2011 के 'हाउ टू वाइप आउट इस्लामिक टेरर' शीर्षक से लिखे गए लेख से अल्पसंख्यक समुदाय में पैदा हुई असुरक्षा की भावना और हंगामे के बाद मैं आपको यह पत्र लिख रहा हूं। हार्वर्ड विश्वविद्यालय से डॉक्ट्रेट स्वामी ने अपने लेख में भारत में होने वाले आतंकवादी हमलों से निपटने के लिए गैर-हिंदुओं को मताधिकार न देने की वकालत की थी। मथाई ने कहा, इसमें प्रदर्शित चरम दक्षिणपंथी विचार परेशान करने वाले हैं और यह लेख सामाजिक रूप से गैर जिम्मेदार और इस्लाम विरोधी है। यह भी चिंताजनक है कि डॉ स्वामी अपने अभिव्यक्ति के अधिकार का पूर्वाग्रहों के जरिए नफरत फैलाने और इस्लाम के प्रति डर पैदा करने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। मथाई ने यह भी कहा है कि जेलों में हिंदू आतंकवादी भी हैं और उन्होंने भी समान रूप से जघन्य कृत्य किए हैं। उन्होंने कहा, यह एक तथ्य है कि एक राष्ट्र के रूप में भारत की खुशहाली, प्रगति और सुरक्षा में मुस्लिम समुदाय का भी बहुत योगदान है। डॉ स्वामी का विचित्र समाधान यह है कि वह संविधान के अनुच्छेद 25 के मुताबिक प्रत्येक व्यक्ति को अपनी इच्छानुसार रहने की स्वतंत्रता देने की बजाए मुसलमानों को हिंदुत्व अपनाने के लिए कह रहे हैं।

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com