NDTV Khabar

आरके सिंह ने BJP पर लगाया था टिकट बेचने का आरोप, अब बने पीएम मोदी के 'चहेते'

मोदी सरकार में आरके सिंह को मंत्री पद मिलने के फैसले को चौंकाने वाला माना जा रहा है.

85 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
आरके सिंह ने BJP पर लगाया था टिकट बेचने का आरोप, अब बने पीएम मोदी के 'चहेते'

आरके सिंह

खास बातें

  1. कई मौकों पर बीजेपी की फजीहत करवा चुके हैं आरके सिंह
  2. बिहार चुनाव के दौरान नहीं किया था बीजेपी के लिए प्रचार
  3. ललित मोदी गेट में भी पार्टी लाइन से हटकर दिया था बयान
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से कैबिनेट में किए गए बड़े बदलाव के तहत पूर्व गृह सचिव और बिहार के आरा से सांसद आरके सिंह को भी मंत्री बनाया गया है. मोदी सरकार में आरके सिंह को मंत्री पद मिलने के फैसले को चौंकाने वाला माना जा रहा है. दरअसल, आरके सिंह कई मौकों पर अपनी बयानबाजी से पार्टी की फजीहत करा चुके हैं. साल 2015 में बीजेपी जहां बिहार में जीत दर्ज करने के लिए पूरी ताकत झोंके हुई थी, तब आरके सिंह के बयान के चलते पार्टी की खासी किरकिरी हुई थी. इसके अलावा आरके सिंह ललित मोदी गेट के दौरान भी पार्टी लाइन से अलग जाकर राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को कटघरे खड़ा कर चुके हैं. 

ये भी पढ़ें: पार्टी के बयान से संतुष्‍ट नहीं हूं, दागियों के लिए प्रचार नहीं करूंगा - BJP सांसद आरके सिंह

'बिहार में पैसे लेकर बांटे जा रहे टिकट': 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी सांसद आरके सिंह ने आरोप लगाया था कि पार्टी की प्रदेश इकाई पैसे लेकर टिकट बांट रही है. साथ ही कहा था कि बीजेपी पैसे लेकर अपराधियों और दागियों को टिकट दे रही है. बीजेपी सांसद आरके सिंह ने NDTV इंडिया से बातचीत में कहा मैं दागियों के लिए प्रचार नहीं करूंगा.

ये भी पढ़ें: भाजपा सांसद आरके सिंह बोले, शर्म आती है पार्टी इस स्‍तर तक गिर गई है

पार्टी में टिकट वितरण पर सवाल उठाते हुए आरके सिंह ने कहा था कि, 'जिस तरह टिकट बंटवारा हुआ, मुझे लगा कि कार्यकर्ताओं की नाराजगी में दम हैं. आप अपराधियों को टिकट दे रहे हैं. उन मौजूदा विधायकों की टिकट काटी जा रही है, जो नेताओं की जी-हुजूरी नहीं करते. आखिर, अपराधियों को टिकट देकर बिहार को साफ प्रशासन कैसे दिया जा सकता है. फिर हममें और लालू में क्‍या फर्क रह जाएगा. टिकट बंटवारे के दौरान मैंने सुशील मोदी को भी फोन किया था, लेकिन उन्‍होंने फोन नहीं उठाया.' सिंह ने आगे कहा, 'टिकट बंटवारे में मेरी राय नहीं ली गई, लेकिन मैंने खुद पार्टी से साफ छवि वाले व्‍यक्ति को टिकट देने की बात कही थी.'

ये भी पढ़ें: अब BJP सांसद आरके सिंह बोले, 'भारत विरोधी नारा लगाने वालों के हाथ-पैर तोड़ दूंगा'

'शर्म आती है पार्टी इस स्‍तर तक गिर गई है': एनडीटीवी से विशेष बातचीत में आरके सिंह ने कहा था, 'हम पार्टी विद डिफरेंस के तौर पर जाने जाते थे. हमें लगा कि हम साफ-सुथरी सरकार देंगे और इसके बाद आपने अपराधियों को टिकट दे दिए. यह बेहद दुखदायी और बेहद बुरा है.'दिल्‍ली स्थित एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्‍स के विश्‍लेषण के अनुसार, बिहार में भाजपा के 157 उम्‍मीदवारों में से 95 के खिलाफ आपराधिक केस थे. इनमें से 60 फीसदी के खिलाफ हत्‍या, अपहरण जैसे गंभीर किस्‍म के मामले थे.

VIDEO: आरके सिंह बोले- दागी उम्‍मीदवारों का प्रचार नहीं करूंगा

वसुंधरा-सुषमा पर उठाया सवाल: IPL के कमिश्नर ललित मोदी की मानवीय आधार पर मदद पर बीजेपी सांसद और पूर्व गृह सचिव आरके सिंह ने बिना नाम लिए वसुंधरा राजे और सुषमा स्वराज पर हमला बोल चुके हैं. सिंह ने ललित मोदी को भगोड़ा बताते हुए कहा कि उनकी मदद करना या उनसे मिलना गुनाह है. उन्होंने बिना किसी का नाम लिए कहा कि ललित मोदी से मिलना या उनकी मदद करना गुनाह है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement