NDTV Khabar

काले धन को सफेद करने के लिए सरकार लाई है 'फेयर एंड लवली योजना' : राहुल गांधी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
काले धन को सफेद करने के लिए सरकार लाई है 'फेयर एंड लवली योजना' : राहुल गांधी

लोकसभा में कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी

नई दिल्ली:

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में एयरसेल-मैक्सिस मुद्दे पर चर्चा में हिस्‍सा लिया। एयरसेल-मैक्सिस मुद्दे कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की कथित संलिप्‍तता के आरोप हैं। मामले पर पहले बोलते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि दोषियों को बख्‍शा नहीं जाएगा।

राहुल गांधी ने चर्चा के दौरान कहा...
- पीएम मोदी जी नई योजना लेकर आए हैं, 'फेयर एंड लवली योजना', काले धन को कैसे गोरा (सफेद) बनाया जाए। इस योजना के तहत कोई भी अपने काले धन को सफेद कर सकता है। पीएम मोदी ने 2013 में कहा था, 'मैं काला धन खत्‍म कर दूंगा और दोषियों को जेल भेज दूंगा। लेकिन इस योजना में किसी की गिरफ्तारी नहीं होगी।

- मोदी जी ने रोजगार देने का वादा किया था लेकिन जब आप लोगों से पूछते हैं कि क्‍या आपको रोजगार मिला, तो कोई भी हाथ नहीं उठाता।


- मोदी जी ने कहा, 'मैंने मनरेगा से खराब कोई योजना नहीं देखी।' लेकिन जेटली मेरे पास आए और बोले, ये बहुत अच्‍छी योजना है। मैंने उनसे कहा कि ये आप अपने बॉस को क्‍यों नहीं बताते हैं।

- जब मनरेगा के लिए धन आवंटित हुआ तो मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और ऐसा लगा कि चिदंबरम बजट पेश कर रहे हैं।

- आपको आरएसएस ने सिखाया कि बस आप ही सच बोलते हैं, बाकी दुनिया में किसी की राय की अहमियत नहीं।

- पीएम देश चलाते हैं, वे खुद देश नहीं हैं। मैं जनता से मिलता हूं, बात करता हूं फिर बोलता हूं।

जेएनयू मामले पर...
- जेएनयू के छात्र संघ के नेता कन्‍हैया कुमार ने यूनिवर्सिटी कैंपस में 20 मिनट तक भाषण दिया। मैंने पूरा भाषण सुना है। उसने कभी भी देश के खिलाफ एक शब्‍द नहीं कहा, और आपने अभी तक उसे जेल में डाल रखा है।

टिप्पणियां

- जेएनयू में 40 फीसदी छात्रों के माता-पिता की आय 6000 रुपये से भी कम है। आप जेएनयू के पीछे क्‍यों पड़े हैं। क्‍योंकि वो गरीब, कमजोर, दलित और आदिवासी हैं। आप चाहते हैं कि वो पिछड़े ही रहें? हम ऐसा होने नहीं देंगे। आप जेएनयू को और इस देश के गरीबों को कुचल नहीं सकते।

- मैं धर्म के बारे में भी थोड़ा बोलना चाहूंगा। मुझे बताएं कि कौन सी पवित्र किताब में लिखा है कि हमें अपने शिक्षकों को पीटना चाहिए। पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर क्‍यों जेएनयू के छात्रों, शिक्षकों और पत्रकारों को पीटा गया? और जब ऐसा हुआ तो आपकी सरकार ने आखिर क्‍यों एक भी शब्‍द भी नहीं कहा?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement