आरएसएस पर महिला विरोधी होने के आरोप का मोहन भागवत ने दिया यह जवाब

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने कहा- विभिन्न गतिविधियों में संघ को महिलाओं का सक्रिय सहयोग मिलता है.

आरएसएस पर महिला विरोधी होने के आरोप का मोहन भागवत ने दिया यह जवाब

आरएसएस के सर संघचालक मोहन भागवत.

खास बातें

  • संघ केवल संन्यासियों का नहीं, इसमें विवाहित लोग भी
  • विवाहितों की पत्नियां एवं माताएं संघ की गतिविधियों में मददगार
  • महिलाओं के लिए एक समानांतर संगठन राष्ट्र सेविका समिति भी
नई दिल्ली:

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कांग्रेस के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर पुरुषों का वर्चस्व होने और महिलाओं को मौके नहीं दिए जाने के आरोप का जवाब दिया. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने सोमवार को कहा कि महिलाएं संघ का विभिन्न गतिविधियों में सक्रिय सहयोग कर रही हैं और समाज के कल्याण में उन्हें शामिल करने के लिए एक समानांतर संगठन की स्थापना की गई है.

भागवत ने दिल्ली के विज्ञान भवन में अयोजित अपनी तीन दिवसीय व्याख्यान श्रृंखला के पहले दिन कहा कि संघ केवल ‘‘संन्यासियों’’ का नहीं है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ऐसे भी स्वयंसेवक हैं जो विवाहित हैं और उनकी पत्नी एवं माता सक्रिय रूप से संघ की गतिविधियों में सहयोग करती हैं.

यह भी पढ़ें : किसी भी संगठन की तुलना RSS से नहीं हो सकती, संघ के कार्यक्रम में बोले मोहन भागवत

उन्होंने कहा कि महिलाएं भी संघ के कार्य में सक्रिय रूप से योगदान करती हैं और महिलाओं के लिए एक समानांतर संगठन, राष्ट्र सेविका समिति है जो कि समाज के कल्याण के लिए संघ की विचारधारा पर कार्य करता है.

VIDEO : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पाठशाला

भागवत ने कहा कि संघ का वित्तपोषण केवल अपने स्वयंसेवकों द्वारा दिए गए दान पर होता है. एक भी पैसा बाहर से नहीं लिया जाता और यदि कोई देता भी है तो संगठन लौटा देता है.
(इनपुट भाषा से)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com