उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री बोले, दानिश कनेरिया और योहाना का भारत में स्वागत

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा के पूर्व पाकिस्तान के खिलाड़ी दानिश कनेरिया मामले पर बड़ा बयान दिया है.

उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री बोले, दानिश कनेरिया और योहाना का भारत में स्वागत

मोहसिन रजा ने कहा 'हम ऐसे प्रताड़ितजनों से आह्वाहन करते हैं'

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा के पूर्व पाकिस्तान के खिलाड़ी दानिश कनेरिया मामले पर बड़ा बयान दिया है. मोहसिन रजा ने कहा कि दानिश कनेरिया और यूसुफ योहाना जैसे लोगों का भारत में स्वागत है. अपने ट्विटर अकाउंट पर उन्होंने लिखा कि दिनेश कनेरिया को दानिश बना दिया. यूसुफ योहाना को मोहम्मद यूसुफ बना दिया. जब इतने प्रतिष्ठित लोगों के साथ इस तरह का भेदभाव किया गया है तो पाकिस्तान में आम नागरिकों को कितना प्रताड़ित किया जाता है इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. वासुदेव कुटुम्बकम की हमारी संस्कृति के तहत हम ऐसे प्रताड़ितजनों से आह्वाहन करते हैं कि वो हमारे की नागरिकता के लिए आवेदन करें हम ससम्मान हिंदुस्तान की नागरिकता प्रदान करेंगे. 

पाकिस्‍तान के पूर्व स्पिनर दानिश कनेरिया ने फिक्सिंग में शामिल होने की बात मानी, कहा-माफी मांगता हूं

आपको बता दें कि अख्तर ने यह कहकर बवाल पैदा कर दिया कि कनेरिया का कुछ खिलाड़ियों ने अपमान किया क्योंकि वह हिन्दू था. इस वजह से उसे जरूरी श्रेय नहीं मिला और कुछ खिलाड़ी तो उसके धर्म के कारण उसके साथ खाना नहीं खाते थे. कनेरिया ने भी अख्तर के बयान पर सहमति जतायी और कहा कि वह जल्द ही उन खिलाड़ियों के नामों का खुलासा करेंगे जिन्होंने उनके धर्म के कारण उनके साथ गलत व्यवहार किया. यह पूर्व स्पिनर 2012 से स्पॉट फिक्सिंग के कारण आजीवन प्रतिबंध झेल रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पाकिस्‍तानी क्रिकेटर दानिश कनेरिया का अचानक भारत दौरा बना चर्चा का सबब

वहीं पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इस मामले से अपना किनारा कर लिया. पीसीबी के प्रवक्ता ने कहा, "अख्तर और कनेरिया दोनों संन्यास ले चुके हैं और हमसे अनुबंधित नहीं है इसलिए वे जो चाहे कर सकते हैं और कह सकते हैं. यह उनके विचार हैं. और उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट की पूरी व्यवस्था के खिलाफ नहीं बल्कि कुछ खिलाड़ियों के व्यवहार को लेकर आरोप लगाये हैं." उन्होंने कहा, "जब कनेरिया खेल रहा था तब इंजमाम उल हक, राशिद लतीफ, यूनिस खान और मोहम्मद यूसुफ पाकिस्तान के कप्तान रहे. अख्तर और कनेरिया ने जो कुछ कहा, इस पर उन्हें जवाब देना चाहिए. इसमें बोर्ड को क्यों शामिल होना चाहिए."