NDTV Khabar

17 दिन पहले ही पूरे देश में पहुंचा मानसून, दिल्ली को नसीब हुई स्वच्छ हवा

मानसून तय समय से 17 दिन पहले ही पूरे देश में पहुंचा, भारी बारिश के कारण अमरनाथ यात्रा प्रभावित

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
17 दिन पहले ही पूरे देश में पहुंचा मानसून, दिल्ली को नसीब हुई स्वच्छ हवा

अरुणाचल प्रदेश में बारिश के दौरान भूस्खलन होने पर एक बड़ी चट्टान आईटीबीपी के वाहन पर गिरी.

खास बातें

  1. दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक संतोषजनक स्तर पर आया
  2. अरुणाचल में बड़ी चट्टान भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के वाहन पर गिरी
  3. हादसे में आईटीबीपी के चार जवानों की मौत
नई दिल्ली: देश में मॉनसून तय समय से दो सप्ताह पहले ही पहुंच गया, जिससे देश के अनेक हिस्सों में बारिश हो रही है. अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हुई बारिश के बाद आर्द्रता 90 प्रतिशत तक पहुंच गई. वहीं तापमान सामान्य से एक डिग्री कम हो गया. मॉनसूनी हवाएं दिल्ली की हवा से धूल भी उड़ा ले गईं, जिसके चलते दिल्लीवासियों को करीब एक साल में सबसे स्वच्छ हवा में सांस लेने का मौका मिला. दिल्ली में शुक्रवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) ‘‘संतोषजनक’’ 83 रहा. गौरतलब है कि 0-50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’,51-100 को संतोषजनक’, 101-200 को ‘मध्यम श्रेणी’ का, 201-300 को ‘ खराब ’, 301-400 को ‘ बेहद खराब ’ तथा 401-500 को ‘ गंभीर ’ मना जाता है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी ने बताया कि दिल्ली वासियों को आखिरी बार इस तरह की स्वच्छ हवा पिछले साल अगस्त में मिल पाई थी.


यह भी पढ़ें : दिल्ली सहित कई राज्यों में मॉनसून की दस्तक, बारिश का दौर शुरू

इस बीच मानसून तय समय से 17 दिन पहले ही पूरे देश में पहुंच गया है. मानसून पश्चिमी राजस्थान में स्थित देश की आखिरी सीमा चौकी श्रीगंगानगर में भी पहुंच गया है. श्रीगंगानगर में मानसून सामान्यत: 15 जुलाई को पहुंचना था. मौसम विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने शुक्रवार को कहा, ‘‘मानसून आज पूरे देश में पहुंच गया.’’

उधर अरुणाचल प्रदेश के लोअर सिआंग जिले में बसर-अकाजन मार्ग पर बारिश के कारण भूस्खलन के चलते पहाड़ से एक बड़ी चट्टान के टूटकर भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के वाहन पर गिरने से चार जवानों की मौत हो गई. पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना गुरुवार को देर रात लगभग ढाई बजे लोअर सिआंग के जिला मुख्यालय लिकाबली से करीब पांच किलोमीटर दूर उस समय हुई, जब भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवान पश्चिमी सिआंग जिले के बसर से लोअर सिआंग जा रहे थे.

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में भारी बारिश के बाद हुए भूस्खलन से मनाली-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग-3 अवरुद्ध हो गया. एक अधिकारी ने बताया कि राजमार्ग को साफ करने के प्रयास किए जा रहे हैं. माढ़ी में गुरुवार को रात में भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने की खबरें हैं. हालांकि, जिला प्रशासन को भूस्खलन के बारे में शुक्रवार को सुबह पता चला जब कुछ पर्यटकों ने उन्हें सड़क अवरुद्ध होने के बारे में सूचना दी.

वहीं जम्मू कश्मीर के डोडा जिले में लगातार तीन दिन से हो रही बारिश की वजह से एहतियात के तौर पर आज 12 वीं कक्षा तक के सभी सरकारी और निजी स्कूलों में छुट्टी की घोषणा की गई है.

इस बीच, अमरनाथ गुफा में शुक्रवार को 1300 श्रद्धालुओं ने पवित्र शिवलिंग के दर्शन किए. श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि हालांकि कश्मीर घाटी में निरंतर वर्षा से पहलगाम और बालटाल दोनों ही मार्गों से यात्रा स्थगित करनी पड़ी. अमरनाथ गुफा को जाने वाले वाले पूरे मार्ग पर भारी वर्षा होने के कारण यात्रा स्थगित कर दी गई.

टिप्पणियां
VIDEO : मुंबई में बारिश से उपजीं समस्याएं

असम के बाढ़ प्रभावित छह जिलों में से एक में शुक्रवार को स्थिति और बिगड़ गई. एक और व्यक्ति की मौत होने के साथ ही बाढ़ में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 32 हो गई है.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement