NDTV Khabar

अमित शाह ने किया उद्धव ठाकरे को फोन, शिवसेना अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार का करेगी समर्थन, औपचारिक ऐलान आज

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है, "लोकतंत्र में विपक्ष की आवाज़ को पहले सुना जाना चाहिए, भले ही उसमें सिर्फ एक ही शख्स हो. यहां तक कि ज़रूरत पड़ने पर हम (शिवसेना) भी बोलेंगे. वोटिंग के दौरान हम वहीं करेंगे, जो उद्धव ठाकरे कहेंगे."

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमित शाह ने किया उद्धव ठाकरे को फोन, शिवसेना अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार का करेगी समर्थन, औपचारिक ऐलान आज

मॉनसून सत्र का दूसरा दिन

खास बातें

  1. चंद्रबाबू नायडू ने सभी लोकसभा सांसदों को चिट्ठी लिखी है
  2. बीजेपी सांसद अशोक दोहरे ने एनडीटीवी से कहा, मैं नाराज नहीं हूं
  3. किसानों को एमएसपी का रेट नहीं मिल पा रहा है: कांग्रेस सांसद
नई दिल्ली: मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान पहले अविश्वास प्रस्ताव की बिसात बिछ चुकी है. गुरुवार को सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों अपनी-अपनी रणनीति बनाने में जुटे रहे. हालांकि विपक्ष के नेता भी ये मानते रहे कि मोदी सरकार के पास बहुमत के आंकड़े हैं. संसद चलती रही, लेकिन सबका ध्यान शुक्रवार के अविश्वास प्रस्ताव के हिसाब-किताब पर रहा. सरकार को मालूम है, उसके पास बहुमत है. कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार के पास स्पष्ट बहुमत है. केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि ये सरकार के लिए विश्वास मत होगा और बेहतर होगा कि एक बार दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए. जिन दो सांसदों- शत्रुघ्न सिन्हा और सावित्री बाई फुले से विरोध का अंदेशा था, वे शाम होते-होते समर्थन का ऐलान कर बैठे. शिवसेना भी सरकार के साथ खड़ी है.

संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सोनिया गांधी अपना गणित सुधारें. खबरों के मुताबिक सोनिया ने बुधवार को दावा किया था कि कांग्रेस के पास ज़रूरी आंकड़े हैं. लोकसभा का हिसाब बताता है कि सरकार के पास बहुमत से कुछ ज़्यादा ही वोट हैं. 11 सीटें खाली हैं, तो बचे हुए 533 वोटों में एनडीए के पास 312 वोट हैं. एडीएमके और टीआरएस गैरहाजिर रहने पर ये बहुमत और बड़ा हो जाता है.

बीजू जनता दल ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं. बीजेडी सांसद प्रसन्ना कुमार पटसानी ने एनडीटीवी से कहा कि बीजेडी अध्यक्ष नवीन पटनायक ने अभी फैसला नहीं किया है. अविश्वास प्रस्ताव के दौरान ये देखना महत्वपूर्ण होगा कि विपक्ष सरकार के समर्थकों में कितनी सेंधमारी कर पाता है और बहस के दौरान अपने मुद्दों को प्रभावी तरीके से रख पाता है. ये 2019 के लोकसभा चुनाव से से पहले की पहली बड़ी लड़ाई है. साफ है अविश्वास मत टिकेगा नहीं, लेकिन विपक्ष इसे अपनी वैचारिक लड़ाई के तौर पर देख रहा है- सरकार को बेनकाब करने के मौके के तौर पर.


मॉनसून सत्र का दूसरा दिन UPDATES

- लोकसभा में शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना सरकार का समर्थन करेगी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने उद्धव ठाकरे से फ़ोन पर बात की है. हालांकि शिवसेना कल सुबह 10 बजे संसदीय दल की बैठक के बाद अपने रुख़ का औपचारिक एलान करेगी.

- शुक्रवार को लोकसभा में प्रश्नकाल नहीं होगा

- यूपी के बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्री फुले ने एनडीटीवी से कहा कि कि पार्टी के साथ हूं.  मैं अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट दूंगी. मेरे मुद्दे अपनी जगह पर हैं, लेकिन पार्टी ने मुझे टिकट दिया. मैं बीजेपी की सांसद हूं.

-  शिवसेना ने अपने सभी सांसदों की कल सुबह 10 बजे बैठक बुलाई है. सभी सांसदों को इसमें उपस्थित रहने को कहा गया है. 

- अमित शाह संसद भवन में कल के अविश्वास प्रस्ताव पर लेकर रणनीति बना रहे है.संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार, बीजेपी महासचिव भूपेन्द्र यादव, चीफ व्हिप अनुराग ठाकुर भी इस बैठक में मौजूद हैं. इस बैठक में एआईएडीएमके के सांसद पी.वेणुगोपाल भी बैठक में मौजूद

- उद्धव ठाकरे से फोन पर बात कर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अविश्वास प्रस्ताव पर मांगा समर्थन, शिवसेना आज शाम लेगी फैसला: सूत्र 

- कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि मॉब लिंचिंग पर लोकसभा में गृहमंत्री का बयान किसी भी तरह से संतोषजनक नहीं है. इसलिए हमने सदन से वॉक आउट किया. यह कोई पिंग-पॉन्ग का कोई खेल नहीं जो केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारियां एक दूसरे पर फेंकती रहे.

 
- मॉब लिंचिंग पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बयान के खिलाफ कांग्रेस के सांसदों ने पहले प्रदर्शन किया और फिर लोकसभा से वॉक आउट किया 

- मॉब लिंचिंग पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में कहा कि केन्‍द्र सरकार की कोशिश भी जारी है लेकिन हिंसा रोकना राज्‍य का जिम्‍मेदारी है. केन्‍द्र सरकार ने राज्‍य सरकारों को निर्देश दिया है. फेक न्‍यूज पर रोक की भी कोशिश की जा रही है.

- टीडीपी अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सभी लोकसभा सांसदों को चिट्ठी लिखी है. चंद्रबाबू नायडू ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का लगातार अड़ियल रवैया देखते हुए. टीडीपी संसदीय बोर्ड ने 18 जुलाई 2018 को संसद के मॉनसून सत्र में मोदी सरकार के ख़िलाफ़ फिर अविश्वास प्रस्ताव पेश किया. माननीय स्पीकर महोदया ने अविश्वास प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है और यह 20 जुलाई 2018 को सदन में आएगा. मैं आप सबसे अपील करता हूं कि हमारे सांसदों द्वारा पेश अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करें. 

- बीजेपी सांसद अशोक दोहरे ने एनडीटीवी से कहा, मैं नाराज नहीं हूं. पीएम मोदी हमारे मुखिया हैं. मैंने स्वयं उनसे मिल कर उन्हें पत्र दिया था. अशोक दोहरे इटावा से दलित सांसद हैं. दलितों के मुद्दे पर पीएम को पत्र लिख कर नाराज़गी जताई थी. उन्‍होंने कहा कि मैं सरकार और पार्टी के साथ, अविश्वास प्रस्ताव के विरोध में दूंगा.


- कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री जब पंजाब आए तो उन्‍होंने मक्का की एमएसपी 1700 रुपये कर दी लेकिन पंजाब में आज भी मक्‍का 900 रुपये क्विंटल बिक रहा है. किसानों को एमएसपी का रेट नहीं मिल पा रहा है. हम इस विषय को संसद में उठाएंगे. हमने आज मक्‍के की रकम को लेकर प्रदर्शन किया है.

- संसद के मॉनसून सत्र के दूसरे दिन की कार्यवाही शुरू होने से पहले किसानों के अधिकारों की मांग के समर्थन में कांग्रेस सांसदों ने संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन किया. कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मोदी सरकार की एमएसपी में बढ़ोतरी कर किसानों के साथ धोखा है. 
- बीजेपी सांसद छोटेलाल ने कहा कि मैं अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट दूंगा. मेरी नाराज़गी केंद्र सरकार या पार्टी से नहीं थी. मोदी जी कह चुके हैं कि आरक्षण खत्म नहीं होगा. गौरतलब है कि छोटेलाल ने योगी सरकार के खिलाफ पीएम मोदी को पत्र लिखा था. छोटे लाल रॉबर्ट्सगंज से दलित सांसद हैं.

- केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने दावा किया है, "(कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष) सोनिया (गांधी) जी का गणित कमज़ोर है. उन्होंने पहले भी इसी तरह कैलकुलेट किया था. हम जानते हैं, तब क्या हुआ था. उनका कैलकुलेशन एक बार फिर गलत है. (नरेंद्र) मोदी सरकार के पास संसद के भीतर और बाहर, दोनों जगह बहुमत है. NDA अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट करेगा. NDA+ भी हमें समर्थन देगा."
 

- शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है, "लोकतंत्र में विपक्ष की आवाज़ को पहले सुना जाना चाहिए, भले ही उसमें सिर्फ एक ही शख्स हो. यहां तक कि ज़रूरत पड़ने पर हम (शिवसेना) भी बोलेंगे. वोटिंग के दौरान हम वहीं करेंगे, जो उद्धव ठाकरे कहेंगे."
 

टिप्पणियां
- मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर कांग्रेस ने संसद के निचले सदन लोकसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है.
   

VIDEO: चार साल में पीएम मोदी की पहली अग्निपरीक्षा
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement