NDTV Khabar

इराक में फंसे भारतीयों पर लोकसभा में सुषमा स्‍वराज ने कहा-सदन को गुमराह नहीं किया

उन्‍होंने कहा कि मोसुल में फंसे भारतीयों के बारे में दो किस्‍म के दावे थे लेकिन कोई पुख्‍ता प्रमाण नहीं थे.

222 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
इराक में फंसे भारतीयों पर लोकसभा में सुषमा स्‍वराज ने कहा-सदन को गुमराह नहीं किया

सुषमा स्‍वराज

खास बातें

  1. इराक में फंसे भारतीयों पर सुषमा ने दिया बयान
  2. विपक्ष ने उन पर सदन को गुमराह करने का आरोप लगाया था
  3. 2014 से इराक के मोसुल में 39 भारतीय लापता हैं
इराक में फंसे भारतीयों पर लोकसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने बुधवार को बयान देते हुए कहा कि उन्‍होंने इस मसले पर सदन को गुमराह नहीं किया. उन्‍होंने कहा कि मोसुल में फंसे भारतीयों के बारे में दो किस्‍म के दावे थे लेकिन कोई पुख्‍ता प्रमाण नहीं थे. मेरे पास न तो उनके जिंदा होने के सबूत थे, न मारे जाने के. मैंने तो उन पर उपलब्‍ध जानकारी ही साझा की थी. जब तक उनके बारे में पुख्‍ता सबूत नहीं मिल जाते तब तक सरकार उनकी मौत के संबंध में कोई पुष्टि कैसे कर सकती है? इस संबंध में 39 भारतीयों की मौत का दावा करने वाले हरजीत की कहानी में विरोधाभास है. उनकी बात पर भरोसा करके सरकार हाथ पर हाथ रखकर तो नहीं बैठ सकती थी.

सुषमा स्‍वराज ने कहा कि हमने इराक समेत सभी देशों से इस संबंध में उपलब्‍ध सूचना देने का आग्रह किया. उल्‍लेखनीय है कि 2014 से इराक के मोसुल से 39 भारतीय लापता हैं. इस संबंध में उन्‍होंने कहा कि सरकार के पास उनके बारे में आखिरी जानकारी 2016 तक थी. ऐसे में बिना जानकारी के किसी को मृत घोषित करना पाप है.

यह भी पढ़ें : रामनाथ कोविंद के भाषण पर राज्यसभा में हंगामा
दरअसल कुछ समय पहले सुषमा स्‍वराज ने सदन में कहा था कि इराक में 39 भारतीय मोसुल की जेल में कैद हैं. हालांकि कई मीडिया रिपोर्टों में कहा गया कि वे उस जैल में कैदी नहीं हैं. ये दरअसल उस वक्‍त की बात है जब इस्‍लामिक स्‍टेट का मोसुल पर कब्‍जा था. इस पर विपक्ष ने सरकार को सदन को गुमराह करने का आरोप लगाया.

इससे पहले बुधवार को सदन शुरू होने के साथ ही वह बयान देने के लिए सदन में खड़ी हुईं तो विपक्षी कांग्रेस ने छह कांग्रेसी सदस्‍यों के पांच दिनों के निलंबन के मुद्दे पर हंगामा शुरू कर दिया. वे लोकसभा अध्‍यक्षसुमित्रा महाजन की कुर्सी तक पहुंच गए. इस पर सफाई देते हुए सुमित्रा महाजन ने सोमवार के उस पूरे घटनाक्रम के बारे में विस्‍तार से बताया जिसमें कांग्रेस के सदस्‍यों को निलंबित किया गया. स्‍पीकर ने कहा इस मामले में कुछ गलती हमारे दफ्तर की भी रही. उसके बाद सदन में मोबाइल रिकॉर्ड करने के मामले में अनुराग ठाकुर ने सफाई दी. स्‍पीकर ने उनको चेतावनी दी. इन सबके बीच विपक्षी सांसदों का हंगामा जारी रहा. नतीजतन लोकसभा कुछ समय के लिए स्‍थगित भी हुई.

यह भी पढ़ें : कांग्रेस के छह सदस्‍यों के निलंबन को लेकर लोकसभा में हंगामा
उल्‍लेखनीय है कि लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सोमवार को कांग्रेस के छह सांसदों को 5 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया. इन सांसदों पर अध्यक्ष की ओर कागज फाड़कर उछालने का आरोप है. इन पांच सांसदों में गौरव गोगोई, अधीर रंजन चौधरी,रंजीत रंजन, एमके राघवन, सुष्मिता देब और के सुरेश शामिल हैं. ये सांसद भीड़ की हिंसा पर काम रोको प्रस्ताव लाना चाहते थे. दरअसल, सांसदों ने मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर हंगामा किया. जब कांग्रेस के कई सांसदों ने लोकसभा स्पीकर के समक्ष कागज उछाले तो अनंत कुमार ने कहा कि कांग्रेस सांसदों के द्वारा इस तरह की हरकत शर्मनाक है. इस दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी भी मौजूद थे.
 
VIDEO-सुमित्रा महाजन का बयान


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement