NDTV Khabar

बिहार और असम में बाढ़ का सितम अभी भी जारी, मरने वालों की संख्या 209 पहुंची 

बिहार में बाढ़ से फिलहाल कोई राहत नहीं मिली है. राज्य में बाढ़ के कारण 85 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं. वहीं, 127 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार और असम में बाढ़ का सितम अभी भी जारी, मरने वालों की संख्या 209 पहुंची 

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. बिहार-असम में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 200 के पार
  2. एक करोड़ से ज्यादा लोग हुए हैं प्रभावित
  3. अगले कुछ दिनों तक असम-बिहार में होगी बारिश
नई दिल्ली:

बिहार और असम में बाढ़ से प्रभावित लोगों की संख्या में दिन पर दिन इजाफा ही हो रहा है. दोनों राज्यों में रुक-रुककर हो रही बारिश ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में रहने वालों की मुसीबत बढ़ा दी है. राज्य सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार दोनों ही राज्य में अभी तक एक करोड़ड से ज्यादा लोग बाढ़ की वजह से प्रभावित हुए हैं. जबकि बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 209 पहुंच गई है. बिहार में बाढ़ से फिलहाल कोई राहत नहीं मिली है. राज्य में बाढ़ के कारण 85 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं. वहीं, 127 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.

बिहार और असम में बाढ़ का कहर जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 166 हुई 


राज्य के सबसे बुरी तरह से प्रभावित जिलों में दरभंगा है, जहां अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है. इस महीने के शुरू में नेपाल के तराई क्षेत्र में मूसलाधार बारिश की वजह से बिहार में बाढ़ आई है. दरभंगा जिले में हायाघाट के पास एक रेलवे पुल के नीचे जल स्तर बढ़ कर खतरे के निशान के ऊपर चला गया. इसके बाद पूर्वी मध्य रेलवे को दरभंगा-समस्तीपुर खंड पर ट्रेनों का परिचालन रोकना पड़ा था. वहीं असम में, बारपेटा जिले में एक और व्यक्ति की मौत के साथ मृतकों की संख्या बढ़ कर 82 हो गई है. असम के 56 राजस्व क्षेत्रों के 1,716 गांवों के 21.68 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. राज्य में ब्रह्मपुत्र सहित कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं.

बिहार और असम में बाढ़ का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 209 हुई

गौरतलब है कि असम के प्रभावित जिलों के 3,024 गांवों में 44,08,142 लोग बाढ़ की चपेट में हैं. काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में बाढ़ की वजह से 13 जुलाई से अब तक 129 पशु मारे गये हैं, इनमें 10 गैंडे, आठ सांभर हिरण, आठ जंगली सुअर, पांच बारहसिंगा, एक हाथी और एक जंगली भैंस शामिल हैं. कई बाढ़ प्रभावितों ने राज्य के वित्त मंत्री हिमंत बिस्व शर्मा से कहा था कि उन्हें राहत केंद्रों में न तो पर्याप्त राहत सामग्री दी जा रही है और न ही रहने की सुविधा है. असम की तरह ही बिहार में भी बाढ़ से बुरे हाल हैं. अभी तक बाढ़ की वजह से पांच और लोगों की मौत हो चुकी है.अब यह आंकड़ा बढ़कर 97 हो गया है. राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग ने यह जानकारी दी है.

गुफा में भरा पानी तो घर में बेड पर आराम फरमाता दिखा बाघ, देखते ही चीख पड़े लोग

मधुबनी जिले से चार लोगों और दरभंगा से एक व्यक्ति के मरने की सूचना थी, जिससे मधुबनी में हताहतों की संख्या अब 18 और दरभंगा में 10 हो गयी थी. आपदा प्रबंधन विभाग ने एक रिपोर्ट में कहा था कि सीतामढ़ी में 27 लोगों के मरने की सूचना है और यह बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित जिला बना हुआ था. उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राहत एवं पुनर्वास का जायजा लेने के लिये शनिवार को सीतामढ़ी जिले का दौरा किया था. बिहार में कुल 12 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं. वहीं, बारिश की वजह से दक्षिण के राज्य भी खासे प्रभावित हुए हैं.

बिहार और असम में बाढ़ का सितम जारी, अभी तक 97 लोगों की गई जान

बारिश जनित घटनाओं में तमिलनाडु में भी दो लोगों की मौत हुई थी और तीन मछुआरों समेत चार लोग लापता हैं. केरल में भी लगातार भारी बारिश जारी थी. राज्य के कासरगोड जिले में कुडुले में शनिवार तक 30 सेंटीमीटर से अधिक बारिश दर्ज की गई.पर्वतीय इडुक्की जिले के कोन्नाथाडी गांव में शनिवारद की सुबह भूस्खलन की मामूली घटना हुई, जिससे फसलें बर्बाद हो गयीं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि घटना में कोई हताहत नहीं है. राष्ट्रीय राजधानी में भी भारी बारिश होने से लोगों को उमस भरे मौसम से राहत मिली. न्यूनतम तापमान 28.8 डिग्री सेल्सियस और सुबह साढ़े आठ बजे तक हवा में नमी का स्तर 74 प्रतिशत दर्ज किया गया.

VIDEO: बाढ़ से प्रभावित लोगों की चिंता किसे? 

टिप्पणियां



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement