Coronavirus Lockdown: रमजान पर मुख्तार अब्बास नकवी की मुस्लिम समुदाय से अपील, घरों पर ही करें इबादत और इफ्तारी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, 'संभवतः 24 अप्रैल से रमजान का पवित्र महीना शुरू हो रहा है और रमजान के पवित्र महीने में लोग जो हैं, मस्जिदों में और भी धार्मिक स्थलों में इबादत करते हैं.'

Coronavirus Lockdown: रमजान पर मुख्तार अब्बास नकवी की मुस्लिम समुदाय से अपील, घरों पर ही करें इबादत और इफ्तारी

मुख्तार अब्बास नकवी केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • केंद्रीय मंत्री की मुस्लिम समुदाय से अपील
  • बोले- घरों पर ही करें इबादत और इफ्तारी
  • 24 अप्रैल से शुरू हो रहा है रमजान का महीना
नई दिल्ली:

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) ने आज (सोमवार) देश के सभी मुस्लिमों से अपील की है कि कोरोनावायरस (Coronavirus) के कहर को ध्यान में रखते हुए संभवतः 24 अप्रैल से शुरू हो रहे रमजान के पवित्र महीने के दौरान भारतीय मुसलमान, लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का पूरी ईमानदारी से पालन करते हुए अपने-अपने घरों पर ही इबादत, तराबी आदि करें.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'संभवतः 24 अप्रैल से रमजान का पवित्र महीना शुरू हो रहा है और रमजान के पवित्र महीने में लोग जो हैं, मस्जिदों में और भी धार्मिक स्थलों में इबादत करते हैं. रोजा-इफ्तार होते हैं और भी जो कार्यक्रम हैं, वो होते हैं. क्योंकि ये विपरीत परिस्थितियां हैं, बहुत ही संकट के हालात हैं और पूरी दुनिया में सऊदी अरब से लेकर के तमाम इस्लामिक देशों सहित पूरी दुनिया ने सभी इस तरह के धार्मिक स्थलों पर भीड़भाड़ वाले कार्यक्रमों पर रोक लगाई हुई है और किसी भी तरह के भीड़भाड़ वाले कार्यक्रम नहीं हो रहे हैं.'

उन्होंने आगे कहा, 'आज हमने सभी धर्मगुरुओं से, प्रमुख जो इमाम हैं उनसे, धार्मिक और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ और देशभर के जो वक्फ बोर्ड्स हैं, उनके अधिकारियों और पदाधिकारियों के साथ चर्चा की है. हमने उनसे अपील की है कि लोगों में जागरूकता पैदा करें. उनसे अपील करें कि रमजान के इस पवित्र महीने में लोग इबादत अपने घरों पर करें, तराबी अपने घरों पर करें, इफ्तार के कार्यक्रम अपने घरों पर करें. किसी भी तरह से मस्जिदों में, ईदगाहों में, इमामबाड़ों में या किसी अन्य धार्मिक स्थल पर इस तरह के कार्यक्रम नहीं किए जाने चाहिए.'

नकवी ने आगे कहा, 'ये परंपरा हैं हमारी कि हम सार्वजनिक स्थानों पर इफ्तार के कार्यक्रम करते हैं या फिर व्यक्तिगत स्थल पर करते हैं, उसपर भी इस तरह के कार्यक्रम नहीं होने चाहिए.' बताते चलें कि मुख्तार अब्बास नकवी, जो कि राज्यों के वक्फ बोर्ड्स की रेगुलेटरी बॉडी (नियामक संस्था) सेंट्रल वक्क काउंसिल के चेयरमैन भी हैं, ने बताया कि राज्यों के विभिन्न वक्फ बोर्डों के अंतर्गत देशभर में 7 लाख से ज्यादा पंजीकृत मस्जिदें, ईदगाहें, इमामबाड़े, दरगाहें एवं अन्य धार्मिक संस्थान आते हैं. ज्ञात हो कि कोरोना के कहर के चलते सऊदी अरब सहित अधिकांश मुस्लिम देशों ने रमजान के दौरान धार्मिक स्थलों पर इबादत, इफ्तार आदि पर रोक लगा दी है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का देश गंभीरता से पालन कर रहा है. हमारी किसी भी तरह की लापरवाही हमारे, हमारे परिवार, पूरे समाज और मुल्क के लिए परेशानी बढ़ा सकती है. हमें करोना के कहर को शिकस्त देने की हर मुहिम, दिशा-निर्देशों का गंभीरता और पूरी ईमानदारी से पालन करना चाहिए.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: जो कोरोना को पराजित कर चुके हैं आज हमें उनसे प्रेरणा लेनी है : PM मोदी