मुंबई के 26/11 हमला केस के वकील उज्ज्वल निकम ने राकेश मारिया के दावे को खारिज किया

विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने कहा- 10 में से 9 आतंकी जो मारे गए थे उनके आई कार्डों पर हिन्दू नाम लिखे थे

मुंबई के 26/11 हमला केस के वकील उज्ज्वल निकम ने राकेश मारिया के दावे को खारिज किया

मुंबई आतंकी हमला केस के विशेष वकील उज्जवल निकम.

खास बातें

  • अजमल कसाब के पहचान पत्र पर नाम समीर चौधरी हैदराबाद लिखा था
  • हमले के पहले पकड़े जाने पर साजिश को छुपाने के लिए यह किया था
  • निकम ने कहा- राकेश मारिया का कहना है कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं लिखा
मुंबई:

मुंबई के 26/11 आतंकी हमले के मुकदमे की अदालत में पैरवी करने वाले विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया के इस दावे को खारिज किया है कि पाकिस्तानी आतंकी हिन्दू आतंकवाद दिखाने की साजिश के तहत आए थे. उज्ज्वल निकम का कहना है कि 10 में से 9 आतंकी जो मारे गए थे उनके पास से जो आई कार्ड मिले थे उन पर हिन्दू नाम लिखे थे.
 
निकम ने कहा कि ''यह बात सच है कि अजमल कसाब के पास जो पहचान पत्र मिला था उस पर नाम समीर चौधरी हैदराबाद लिखा था. वह फर्जी थे. इसकी जांच की गई थी और अदालत में कॉलेज के प्रिंसिपल की गवाही भी हुई थी. लेकिन ऐसा उन्होंने हमले के पहले पकड़े जाने पर हमले की साजिश को छुपाने के उद्देश्य से किया था. ताकि अगर वे पकड़े जाएं तो खुद को भारतीय और छात्र बता सकें. मुझे लगता है यही उनका मकसद होगा.''

निकम ने कहा कि ''मैंने राकेश मारिया से भी फोन पर बात की. उनका भी कहना है कि मैंने ऐसा कुछ नहीं लिखा है. मैंने लिखा है कि अगर अजमल कसाब जिंदा नहीं पकड़ा जाता तो दूसरे दिन अखबारों की हेडलाइन होती कि हिन्दू आतंकवाद दिखाने के लिए आए थे.''

मुंबई आतंकी हमला : मारिया के दावे को बीजेपी ने बनाया मुद्दा, कांग्रेस नेताओं की जांच कराने की मांग

VIDEO : मुंबई के 26/11 आतंकी हमले को हिन्दू आतंकवाद दिखाना चाहता था पाकिस्तान

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com