NDTV Khabar

मुंबई हादसा: पीड़ित ने सुनाई आपबीती, ‘मैं गिर गई थी और लोग मेरे ऊपर दौड़े जा रहे थे…’

सुलभा अरोड़ा बोलीं- हम लोग भाग्यशाली थे कि किसी तरह से बाहर निकले की सीढ़ियां ढूंढ पाए और बाहर निकलने में कामयाब हो गये.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई हादसा: पीड़ित ने सुनाई आपबीती, ‘मैं गिर गई थी और लोग मेरे ऊपर दौड़े जा रहे थे…’

हादसे की चश्मदीद डॉ सुलभा अरोड़ा

खास बातें

  1. मुंबई हादसे में बाल-बाल बची पीड़िता ने सुनाई आपबीती.
  2. आग की लपटें इतनी तेजी से फैली कि कुछ समझ ही नहीं आया.
  3. इस हादसे में 14 लोगों की मौत हो चुकी है.
मुंबई: मध्य मुंबई के कमला मिल्स में एक इमारत में स्थित पब में जन्मदिन के उत्सव के दौरान आधी रात के बाद आग लगने की घटना में 11 महिलाओं समेत 14 लोगों की मौत हो गयी, जिससे जश्न का पूरा माहौल मातम में तब्दील हो गया. बताया जा रहा है कि अधिकतर लोगों की मौत दम घुटने के कारण हुई है. इस हादसे में बाल-बाल बची एक शख्स ने वहां के उस खौपनाक मंजर को बयां किया है. इस दर्दनाक हादसे की सूचना देने वाली सबसे पहली शख्स थीं सुलभा अरोड़ा, जो पेशे से डॉक्टर हैं. सुलभा अरोड़ा अपने दोस्तों के साथ पब के '1 अबॉव रूपटॉप रेस्टोरेंट' में डिनर कर रही थी. उन्होंने बिल्डिंग से बाहर निकलते ही ट्वीट कर बताया कि वह अब तक की सबसे भयानक घटना में वह खुद को बचा पाई हैं.

डॉ अरोड़ा ने एनडीटीवी से कहा कि 'मैं और मेरे दोस्त डिनर करने के बाद बाहर निकल ही रहे थे कि तभी हमने आग की लपटों को देखा. यह करीब 12.15 बजे रात की घटना है. हमलोगों ने देखा कि आग कोने में लगी थी. मगर कुछ ही सेकेंड में यह पूरे छत में फैल गई और विकलार रूप ले ली. ये सब इतनी तेजी में हुआ कि किसी के पास रियेक्ट करने का भी वक्त नहीं मिला. 

यह भी पढ़ें - कमला मिल्स कंपाउंड में आग : जन्मदिन का केक काटा..आग फैली...और सिर्फ यादों में रह गई 'खुशबू'

डॉ अरोड़ा ने कहा, 'यह काफी डरावाना पल था. वहां सभी सिर्फ और अपरातफरी और अराजकता थी. हर किसी ने प्रवेश द्वार की तरफ़ भागने की कोशिश की.चारों तरफ अफरातफरी थी. किसी ने पिछे से मुझे अचानक धक्का दे दिया. मैं नीचे गिर गई लोग मेरे ऊपर से दौड़ रहे थे और ऐसा महसूस हुआ कि कि छत मेरे ऊपर गिर पड़ेगा. फिर किसी ने वापस आकर मेरी मदद की.

डॉ अरोड़ा और उनके ग्रुप को महसूस हुआ कि मेन एग्जिट गेट पर लोगों की भीड़ होने की वजह से वे उस रास्ते पब से बाहर नहीं निकल सकते हैं, इसलिए वे लोग रेस्टोरेंट की ओर ही वापस भागे और किचेन में पहुंच गये जहां पर किचेन स्टाफ ने उन्हें वहां से बाहर निकलने का रास्ता बताया. 

यह भी पढ़ें - मुंबई कमला मिल्स हादसा: BMC ने पांच अधिकारियों को किया सस्‍पेंड, 10 बातें

उन्होंने कहा कि ' वहां कुछ लोग अपने दोस्तों और परिवार को ढूंढने के लिए रेस्टोरेंट में वापस आने की कोशिश कर रहे थे. दोनों तरफ से आवा-जाही हो रही थी. हम लोग भाग्यशाली थे कि किसी तरह से बाहर निकले की सीढ़ियां ढूंढ पाए और बाहर निकलने में कामयाब हो गये.'

'किचेन में जाने के क्रम में उन लोगों ने देखा कि कुछ युवतियां वॉशरूम की तरफ दौड़ रही थीं. उनमें से ही एक खुशबू गुप्ता थीं, जो अपने दोस्तों के साथ बर्थडे सेलिब्रेट करने आईं थीं. उनका करीब 14 लोगों का समूह था, जिनकी दम घूटने से मौत हो गई. '

यह भी पढ़ें - मुंबई कमला मिल्स में भीषण आग : टल सकता था हादसा यदि BMC ने इन शिकायतों पर ध्यान दिया होता... ?

टिप्पणियां
बता दें कि राजेश भोजानी, जो पहले वहीं पर शाम में मौजूद थे, ने ट्वीट किया कि पब पूरी तरह से लोगों से पैक था और वहां पर फायर एग्जिट की भी व्यवस्था नहीं थी. 

VIDEO: कमला मिल्स कंपाउंड में आग : चश्मदीद ने बयां किया पूरा मंजर


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement