मुंबई के धारावी में कोरोना संकट पर काबू पाने के लिए दोबारा खोले गए 350 क्लीनिक

मुंबई की घनी आबादी वाले धारावी इलाके में कोरोना के बढ़ रहे मामलों को देखते हुए इलाके में बंद करीब 350 क्लीनिक को दोबारा से शुरू किया गया है.

मुंबई के धारावी में कोरोना संकट पर काबू पाने के लिए दोबारा खोले गए 350 क्लीनिक

डॉक्टरों को प्रशासन द्वारा मदद का भरोसा दिया गया है

मुंबई:

मुंबई की घनी आबादी वाले धारावी इलाके में कोरोना के बढ़ रहे मामलों को देखते हुए इलाके में बंद करीब 350 क्लीनिक को दोबारा से शुरू किया गया है. उम्मीद की जा रही है कि इससे कोरोना संक्रमण संबंधित जानकारी मिल पाएगी. मुंबई के धारावी इलाके में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच अब प्रशासन की मदद से इलाके में करीब 350 निजी क्लीनक को दोबारा से शुरू किए गए हैं. हाल ही में प्रशासन के साथ हुई बैठक में डॉक्टरों को पूरी मदद करने का भरोसा दिया गया. जिसके बाद सोमवार से क्लीनिक को दोबारा से शुरू किया गया है. डॉक्टर अनिल पासलेकर का कहना है कि करीब 350 निजी क्लीनिक को शुरू किया गया है जहां पर कोई भी मरीज़ इलाज के लिए आ सकता है. और अगर किसी में कोरोना के लक्षण मिलते हैं तो उसकी जानकारी प्रशासन तक पहुंचाई जाएगी ताकि संक्रमण को रोका जा सके. 

Newsbeep

धारावी में बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रशासन की ओर से कोशिश यही है कि संक्रमण को रोका जा सके और इसलिए अबतक अकेले धारावी में 47500 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है, इसके अलावा प्रशासन की ओर से HCQ दवाई बांटने का काम शुरू किया गया है. इंस्टिट्यूशनल क्वारंटाइन में बेड को 1000 से बढ़ाकर 2300 किया गया है, साथ ही एक निजी स्कूल में भी 700 बेड की व्यवस्था की गई है. 350 क्लीनिक के डॉक्टरों को पीपीई किट दिया जा रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इलाके के सांसद राहुल शेवाले ने बताया कि धारावी में सभी क्लीनिक बंद होने के वजह से नागरिकों को सायन अस्पताल जाना पड़ता था. कोई बीमार हो या किसी तरह की दूसरी परेशानी. तब भी उन्हें सायन अस्पताल ही जाना पड़ता था. अगर कोई कोरोना का मरीज़ होता है तो उसे भर्ती करने में दो से तीन दिन लग जाता था और उतने समय में संक्रमण और फैल जाता है. धारावी में बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रशासन भी एक्टिव है. इसकी गंभीरता को समझते हुए केंद्र से आई डॉक्टरों और एक्सपर्ट की टीम ने भी सबसे पहले धारावी में ही जाकर हालात का जायज़ा लिया था. प्रशासन धारावी में संक्रमण को खत्म करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है और इलाके में दोबारा क्लीनिक खोलना उसी प्रयास का एक हिस्सा है.