Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आदित्य हत्याकांड का आरोपी रॉकी पुलिस अफसर को धक्का देकर भागा, गया कोर्ट में किया सरेंडर

आदित्य हत्याकांड का आरोपी रॉकी पुलिस अफसर को धक्का देकर भागा, गया कोर्ट में किया सरेंडर

रॉकी यादव, आदित्य सचदेव की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी है

खास बातें

  • रॉकी यादव, आदित्य सचदेव की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी है
  • रॉकी के पिता बिंदी यादव पर दो दर्जन से अधिक मामले लंबित हैं
  • रॉकी जनता दल यूनाइटेड की विधान पार्षद, मनोरमा देवी का बेटा है
पटना :

बिहार में अब अपराधियों को सुप्रीम कोर्ट का भी डर नहीं रहा. अगर डर होता तो शायद हत्या के मामले में आरोपी रॉकी यादव और उसके हिस्ट्रीशीटर पिता बिंदी यादव गया पुलिस के अधिकारी को धक्का देकर नहीं भाग जाते. दरअसल यह घटना शनिवार सुबह पटना एयरपोर्ट की है.

गया पुलिस का एक अधिकारी, जिसे पहले से यह जानकारी थी कि रॉकी दिल्ली से पटना आ रहा है और उसके बाद गया जाएगा, वहां मौजूद था. रॉकी को हिरासत में लेने की पूरी तैयारी की गई थी. लेकिन रॉकी और उसके पिता को जैसे ही उसने अपना परिचय दिया, दोनों पुलिस अधिकारी को धक्का और गाली देते हुए अपनी गाड़ी में बैठकर गया के लिए निकल गए.

हालांकि यह बात अलग है कि इस घटना के बाद पुलिस गया तक दोनों बाप-बेटे का पीछा करती रही और रॉकी ने भी पुलिस के दबाव में तंग आकर सीधे कोर्ट में जाकर आत्मसमर्पण कर दिया. बाद में उसे जेल भेज दिया गया.

इस घटना की जानकारी मिलने पर पटना के एयरपोर्ट थाने में एक मामला दर्ज किया गया है. अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि आखिर पुलिस अपने ही एक अधिकारी के साथ मारपीट और गाली-गलौज की इस घटना के बाद रॉकी के पिता बिंदी यादव के खिलाफ क्या करवाई करती है. लेकिन पुलिस के कुछ अधिकारियों का कहना है कि अगर बिंदी को इस मामले में जेल नहीं भेजा गया तो पुलिस के मनोबल पर इसका प्रतिकूल असर पड़ सकता है.

रॉकी यादव, आदित्य सचदेव की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी है और इस मामले में दायर चार्जशीट के अनुसार उसने अपनी रिवॉल्वर से गोली चलाई, जिससे आदित्य की मौत हुई. रॉकी जनता दल यूनाइटेड की विधान पार्षद, मनोरमा देवी का बेटा है. इस हत्या के मामले में उसके पिता का नाम भी साजिशकर्ता के रूप में चार्जशीट में शामिल किया गया है.

हालांकि पटना हाईकोर्ट ने बिंदी, रॉकी सबको जमानत दे दी थी. लेकिन शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने रॉकी की जमानत के आदेश पर रोक लगा दी और इसके बाद शनिवार को उसे गया की एक अदालत ने जेल भेज दिया.

लेकिन यह पहली बार नहीं हैं कि रॉकी और उसके समर्थकों ने मारपिट की है. जमानत मिलने के बाद भी रॉकी के समर्थकों ने मीडियावालों की पिटाई की थी और उसके पिता बिंदी यादव पर तो दो दर्जन से अधिक मामले लंबित हैं. कई मामलो में बिंदी यादव को सजा भी हो चुकी है. लेकिन जानकार मानते हैं कि आखिरकार इस दबंग व्यवहार का परिणाम रॉकी और उसके परिवारवालों को ही भुगतना पड़ेगा.