NDTV Khabar

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने कहा, केंद्र को संसद में तलाक पर चर्चा करनी चाहिए

केंद्र को इस पर अध्यादेश लाने में जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिए और इस मुद्दे पर चर्चा करनी चाहिए.

4 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने कहा, केंद्र को संसद में तलाक पर चर्चा करनी चाहिए

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  1. यह कानूनी रूप से प्रतिबंधित है और इसे शरीयत से भी मंजूरी नहीं है.
  2. तीन तलाक इस्लामिक रीति-रिवाजों का अभिन्न हिस्सा है.
  3. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मुद्दे पर चर्चा करेगा.
तिरुवनंतपुरम: तीन तलाक पर फैसला आने के बाद मुस्लिम लीग ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. सर्वोच्च न्यायालय द्वारा तीन तलाक को 'असंवैधानिक' करार दिए जाने के बाद केरल में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) ने मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार को तीन तलाक पर अध्यादेश लाने में बेवजह जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिए. आईयूएमएल के वरिष्ठ नेता और मलाप्पुरम से लोकसभा सदस्य पीके कुन्हालिकुट्टी ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने इसके लिए छह महीने का समय दिया है. इसे देखते हुए केंद्र को इस पर अध्यादेश लाने में जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिए और इस मुद्दे पर चर्चा करनी चाहिए.
 
कुन्हालिकुट्टी ने कहा, 'संसद को इस मुद्दे पर बहस और चर्चा करनी चाहिए. इसके लिए छह महीने का समय है.'
 
यह भी पढे़ं : अदालती फैसले का शरिया मानने वाली महिलाओं पर क्या प्रभाव होगा : जफरयाब जिलानी

पांच न्यायाधीशों की सदस्यता वाली संविधान पीठ ने मंगलवार को दो के मुकाबले तीन मतों से फैसला सुनाते हुए कहा कि तीन तलाक को संवैधानिक संरक्षण प्राप्त नहीं है. न्यायमूर्ति कुरियन जोसफ, न्यायमूर्ति रोहिंगटन फली नरीमन और न्यायमूर्ति उमेश ललित ने कहा कि तीन तलाक इस्लाम का मौलिक रूप से हिस्सा नहीं है, यह कानूनी रूप से प्रतिबंधित है और इसे शरीयत से भी मंजूरी नहीं है. वहीं, प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर और न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर ने कहा कि तीन तलाक इस्लामिक रीति-रिवाजों का अभिन्न हिस्सा है और इसे संवैधानिक संरक्षण प्राप्त है. न्यायमूर्ति खेहर ने अपने फैसले में संसद से इस मामले में कानून बनाने की अपील की.

 यह भी पढे़ं : पांच में से तीन जजों का तीन तलाक पर फैसला - पांच सवाल

टिप्पणियां
हालांकि, उन्होंने मुस्लिम पुरुषों को अगले छह माह के लिए तीन तलाक से रोकते हुए विभिन्न राजनीतिक दलों से अपील की कि वे अपने मतभेदों को भूलकर इससे संबंधित कानून बनाएं.

VIDEO : तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला
 लोकसभा सदस्य ई.टी. मोहम्मद बशीर ने कहा कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मुद्दे पर चर्चा करेगा.(इनपुट आईएएनएस से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement