BioNTech का दावा, कोरोनावायरस म्यूटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन छह हफ्ते में बना सकते हैं : AFP

टीका बनाने वाली कंपनी BioNTech ने दावा किया है कि कोरोना वायरस म्युटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन 6 हफ्ते में बना सकते हैं.

BioNTech का दावा, कोरोनावायरस म्यूटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन छह हफ्ते में बना सकते हैं : AFP

बायोएनटेक ने फाइजर के साथ मिलकर विकसित वैक्सीन पर जताया भरोसा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन से मचा हाहाकार
  • हम म्युटेशन पर नियंत्रण करने वाली वैक्सीन बना सकते हैं : BioNTech
  • कोरोना वैक्सीन के प्रभावी होने का जताया भरोसा
बर्लिन:

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया प्रकार (New Covid Strain) सामने आने के बाद पूरी दुनिया में खलबली मची हुई. भारत ने भी सवाल उठ रहे हैं कि मौजूदा कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) वायरस के नए संक्रमण से निपटने में कितनी कारगर साबित होगी. इस बीच, टीका बनाने वाली कंपनी BioNTech ने दावा किया है कि वह कोरोना वायरस म्युटेशन (Corona Virus Mutation) को मात देने या नियंत्रित करने वाली वैक्सीन 6 हफ्ते में बना सकते हैं.  कंपनी के सह-संस्थापक उगर साहिन ने कहा, "वैज्ञानिक रूप से, इस बात की संभावना बहुत अधिक है कि इस वैक्सीन की प्रतिरक्षा क्षमता वायरस के नए वेरिएंट से निपट सकती है."

उन्होंने कहा, "कोरोना के इस टीके को जिस तरह से बनाया गया है, इसमें हमारे पास इस बात की सुविधा है कि हम वायरस के नए प्रकार को काबू करने में सक्षम टीके पर सीधे काम करना शुरू कर सकते हैं. यदि जरूरत पड़ती है तो तकनीकी तौर पर हम 6 सप्ताह के भीतर नया टीका लाने में सक्षम हो सकते हैं."

साहिन ने कहा कि ब्रिटेन में वायरस को जो स्वरूप पाया गया है, उसमें 9 म्युटेशन है. आमतौर पर सिर्फ एक म्यूटेशन होता है.  

फाइजर के साथ मिलकर विकसित की गई वैक्सीन को लेकर भरोसा जताते हुए उन्होंने कहा कि यह वैक्सीन प्रभावी होगी क्योंकि इसमें 1,000 से ज्यादा अमीनो एसिड मौजूद हैं और उनमें से केवल 9 में बदलाव हुआ है, इसका मतलब है कि 99 प्रतिशत प्रोटीन अब भी समान है." 

बायोएनटेक ने सह-संस्थापक ने कहा कि वायरस के नए प्रकार पर टेस्ट चल रहे हैं और अगले दो हफ्तों में नतीजे आने की संभावना है. 

नए कोरोना स्ट्रेन पर केंद्र की SOP : संक्रमितों के लिए अलग होगा आइसोलेशन वॉर्ड

उन्होंने कहा, "हमें वैज्ञानिक रूप से भरोसा है कि वैक्सीन वायरस के नए स्वरूप के खिलाफ रक्षा कर सकती है, लेकिन प्रयोग पूरा होने के बाद ही यह जान पाएंगे कि कितना प्रभावी होगी... हम जल्द से जल्द आंकड़े प्रकाशित करेंगे. 


वहीं, कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर भारत सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ प्रोसीज़र जारी किया है.  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के नए नियमों के तहत, UK की फ्लाइट से आने वाले ऐसे यात्रियों को, जिनमें कोरोनावायरस का नया स्ट्रेन मिलता है, उन्हें अलग से बने आइसोलेशन वॉर्ड में रखा जाएगा. इसके अलावा पॉजिटिव निकले सह-यात्रियों को इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन में रखा जाएगा. 

वीडियो: नया कोरोना स्ट्रेन: ब्रिटेन से आए यात्रियों को किया जा रहा है क्वॉरंटीन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


  



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)