NDTV Khabar

'मुजफ्फरनगर- द बर्निंग लव' के निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

2013 में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में हुए दंगों को लेकर बनी फिल्म 'मुजफ्फरनगर: द बर्निंग लव' के निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. 

92 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'मुजफ्फरनगर- द बर्निंग लव' के निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: विवादों का सामना कर रही फिल्म 'पद्मावती' को लेकर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणियों के बाद अब 2013 में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में हुए दंगों को लेकर बनी फिल्म 'मुजफ्फरनगर: द बर्निंग लव' के निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. 

दंगों के दौरान हिंदू युवक और मुस्लिम युवती के प्रेम पर आधारित इस फिल्म को 17 नवंबर को देश भर में रिलीज किया गया, लेकिन उत्तर प्रदेश में जिला प्रशासन द्वारा मुजफ्फरनगर, शामली, बागपत, गाजियाबाद, मेरठ और उतराखंड के हरिद्वार जिले के रूड़की की निगम सीमा में इसे कानून व्यवस्था के नाम पर रिलीज नहीं करने दिया गया.  जबकि बिजनौर में पहले शो के बाद सिनेमाघरों में फिल्म को रोक दिया गया. अब निर्माताओं ने सुप्रीम कोर्ट से इन इलाकों में फिल्म के रिलीज कराने की गुहार लगाई है.

यह भी पढ़ें - MOVIE REVEIW: 'मुजफ्फरनगर-द बर्निंग लव' की कहानी कमजोर, लेकिन मैसेज है सॉलिड

बुधवार को वकील संदीप सिंह ने देश के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से इस याचिका पर जल्द सुनवाई की मांग की है. सुप्रीम कोर्ट 1 दिसंबर को मामले की सुनवाई करने को तैयार हो गया है. सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में कहा गया है कि मोरना इंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड द्वारा बनाई गई इस फिल्म को 14 जुलाई को सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ( CBFC) से सर्टिफिकेट मिल गया था और 17 नवंबर को देश भर में इसे रिलीज किया गया. लेकिन यूपी के इन जिलों में विरोध प्रदर्शन हुआ और जिला प्रशासन ने फिल्म के रिलीज करने पर रोक लगा दी.

यह भी पढ़ें - मुजफ्फरनगर : सड़क दुर्घटनाओं में चार की मौत, 5 साल की बच्ची भी शामिल

उनका कहना है कि जिला अधिकारियों को फिल्म दिखाई गई मगर इसके बावजूद फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज नहीं करने दिया गया. याचिका में कहा गया है कि मुख्यमंत्री से लेकर जिला अधिकारी तक से गुहार लगाई गई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. निर्माताओं का कहना है कि इस तरह की रोक गैर-कानूनी और मनमाना आदेश है. ये संविधान द्वारा दिए गए अभिव्यक्ति की आजादी, जीने और व्यापार करने के मौलिक अधिकार के खिलाफ है. याचिका में 50 लाख रुपये बतौर मुआवजा भी दिलाने की मांग की गई है.

VIDEO: मुजफ्फरनगर रेल हादसा: रेलवे चार अफसर सस्पेंड


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement