NDTV Khabar

अब रेलवे स्टेशनों के शौचालयों में सस्ते दामों में मिलेंगे नैपकीन और कंडोम

रेलवे बोर्ड ने हाल ही में एक नयी शौचालय नीति को मंजूरी दी है जिसके तहत अब रेलवे स्टेशनों के अंदर और बाहर बने शौचालयों में यात्रियों को कम दामों में कंडोम और सैनेटरी नैपकीन मुहैया कराए जाएंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब रेलवे स्टेशनों के शौचालयों में सस्ते दामों में मिलेंगे नैपकीन और कंडोम

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. रेलवे स्टेशनों के शौचालयों में सस्ते दामों में मिलेंगे नैपकीन और कंडोम
  2. रेलवे बोर्ड ने हाल ही में एक नयी शौचालय नीति को मंजूरी दी है
  3. महिला, पुरूष और दिव्यांग जनों के लिए अलग अलग शौचालय होंगे
नई दिल्ली: रेलवे बोर्ड ने हाल ही में एक नयी शौचालय नीति को मंजूरी दी है जिसके तहत अब रेलवे स्टेशनों के अंदर और बाहर बने शौचालयों में न सिर्फ यात्रियों को बल्कि आसपास के क्षेत्र के लोगों को कम दामों में कंडोम और सैनेटरी नैपकीन मुहैया कराए जाएंगे. नीति में कहा गया है कि स्टेशन परिसर के अंदर तथा बाहर शौचालयों की कमी के कारण आस पास के क्षेत्रों खासतौर पर झुग्गी बस्ती और गांवों में रहने वाले लोग अकसर खुले में शौच करते हैं जिससे गंदगी फैलती है और इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं. इसमें कहा गया, ‘‘ इन समस्याओं से निपटने के लिए रेलवे स्टेशन परिसरों का इस्तेमाल महिलाओं और पुरूषों के लिए अलग अलग शौचालय वाला सुविधा केन्द्र बनाने में करेगा. यहां मासिक धर्म से जुडी साफ सफाई तथा गर्भनिरोधक के इस्तेमाल की जानकारी दी जाएगी.’’ 

यह भी पढ़ें: रेलवे में सफर के दौरान लेते हैं कैटरिंग सर्विस से खाना, तो इस खबर को जरूर पढ़ें

टिप्पणियां
नई नीति के अनुसार, प्रत्येक सुविधा केन्द्र में कम दामों में महिलाओं को सैनेटरी नैपकीन और उसके निपटान की सुविधा तथा पुरूषों को कंडोम देने की सुविधा होगी. नीति के तहत प्रत्येक स्टेशन में ऐसे दो केन्द्र होंगे. पहला स्टेशन के अंदर और दूसरा स्टेशन के बाहर जिससे इसका इस्तेमाल स्टेशन आने वाले और आस पास रहने वाले दोनों की प्रकार के लोग कर सके. 

VIDEO: प्राइम टाइम: भारतीय रेल की लेटलतीफी खबर क्यों नहीं बनती?
इसके अलावा प्रत्येक केन्द्र में महिला, पुरूष और दिव्यांग जनों के लिए अलग अलग शौचालय होंगे. इसमें कहा गया है कि 8500 स्टेशनों पर इस प्रकार की सुविधा कन्द्रों के निर्माण के लिए धन सीएसआर कोष से आएगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... अटल बिहारी वाजपेयी की 6 मशहूर कविताएं

Advertisement