NDTV Khabar

Exclusive: दाभोलकर मर्डर केस के आरोपी का इकबालिया बयान- एक सिर में और दूसरी आंख में मारी थी गोली, दी गई थी बंदूक चलाने और बम बनाने की ट्रेनिंग

आरोपी शरद कलस्कर ने इकबालिया बयान में कबूल किया है कि उसने जंगल में पहले एयरगन चलाने की ट्रेनिंग ली और उसके बाद बाद रेकी करके दाभोलकर की हत्या कर दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Exclusive: दाभोलकर मर्डर केस के आरोपी का इकबालिया बयान- एक सिर में और दूसरी आंख में मारी थी गोली, दी गई थी बंदूक चलाने और बम बनाने की ट्रेनिंग

डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की 20 अगस्त 2013 को हत्या कर दी गई थी.

मुंबई:

20 अगस्त 2013 को पुणे में हुई डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के एक आरोपी शरद कलस्कर ने इकबालिया बयान में कबूल किया है कि उसने जंगल में पहले एयरगन चलाने की ट्रेनिंग ली और उसके बाद रेकी करके दाभोलकर की हत्या कर दी. शरद कलस्कर डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या करने वाले 2 शूटरों में से एक है. शरद को सीबीआई ने दूसरे शूटर सचिन अंदुरे के साथ डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था. शरद ने 12/10/18 को शिमोंग जिले के पुलिस अधीक्षक अभिनव खरे के सामने इकबालिया बयान दिया था. शरद कलस्कर औरंगाबाद के एक किसान परिवार से है.

उसने पुलिस को बताया कि उसने दाभोलकर को दो गोलियां मारी थीं, एक उनके सिर और दूसरे उनकी आंख में. उसने कबूल किया है कि उसे कुछ दक्षिणपंथी ग्रुप के सदस्यों ने संपर्क किया और हिंदू धर्म पर प्रवचन देने, गौहत्या, मुस्लिम कट्टरता और लव जिहाद पर वीडियो दिखाए गए. इसके अलावा उसे बंदूक चलाने और बम बनाने की ट्रेनिंग दी गई. इसके साथ ही उसे बताया गया था कि उसे मर्डर करना होगा. उससे कहा गया था, 'जो लोग धर्म के विरुद्ध रहते हैं, उनको स्वंय भगवान खत्म करेंगे. हमें कुछ दुष्ट लोगों का विनाश भगवान के लिए करना जरूरी है.' उसने बताया उससे यह बात वीरेंद्र तावड़े ने कही थी, जो कि मुख्य साजिशकर्ता है.

नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड: CBI कोर्ट ने वकील संजीव पुनालेकर और विक्रम भावे को एक जून तक हिरासत में भेजा 


दाभोलकर की हत्या की बाद शरद कलस्कर को बम बनाने की ट्रेनिंग कर्नाटक के बेलगाम में दी गई. अगस्त 2016 में बेलगाम में मीटिंग हुई थी, उसमें सबसे हिन्दू-विरोधी काम करने वालों के नाम मांगे गए थे. उसी बैठक में पत्रकार गौरी लंकेश का नाम भी चर्चा में आया और फिर सबसे पहले गौरी लंकेश की हत्या करने का फैसला लिया गया. इसके बाद अगस्त 2017 में एक और बैठक बुलाई गई, बैठक के पहले दिन गौरी लंकेश की हत्या के लिए अलग-अलग लोगों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई.

टिप्पणियां

दाभोलकर की हत्या आतंक पैदा करने के लिए की गई थी: सीबीआई

Video: NDTV Exclusive: दाभोलकर मर्डर केस में सामने आया शूटर का इकबालिया बयान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement