केंद्र के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन के बीच नवजोत सिद्धू ने राज्यों को दे डाली यह सलाह, कहा...

सिद्धू ने कहा, "अगर हिमाचल प्रदेश सेब खरीद सकता है, तो हम फसलों की खरीद क्यों नहीं कर सकते... क्या उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य दे सकते हैं? यदि पंजाब सरकार किसानों को एमएसपी प्रदान कर सकती है, तो हम आत्मनिर्भर हो जाएंगे."

केंद्र के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन के बीच नवजोत सिद्धू ने राज्यों को दे डाली यह सलाह, कहा...

पूर्व क्रिकेटर व राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Sidhu) - फाइल फोटो

मोगा:

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) कृषि कानूनों के खिलाफ मोगा में ट्रैक्टर रैली का नेतृत्व करने पंजाब पहुंचे. इस दौरान जनसभा में सीएम अमरिंदर सिंह के साथ पूर्व क्रिकेटर व राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Sidhu) भी मौजूद रहे. राहुल गांधी के साथ रैली में शामिल हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने रैली में कहा, ''यदि केंद्र किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य देना बंद कर देता है, तो राज्यों को ऐसा करना चाहिए.''

नवजोत सिंह सिद्धू ने किसान आंदोलन को लेकर किया ट्वीट, बोले- वही नाग बन बैठे हमें काट खाने को...

सिद्धू ने कहा, "अगर हिमाचल प्रदेश सेब खरीद सकता है, तो हम फसलों की खरीद क्यों नहीं कर सकते ... क्या उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य दे सकते हैं? यदि पंजाब सरकार किसानों को एमएसपी प्रदान कर सकती है, तो हम आत्मनिर्भर हो जाएंगे."

पूर्व मंत्री सिद्धू ने यह भी कहा कि राज्य सरकार को किसानों की मदद के लिए आगे आना चाहिए. बताते चले कि साल 2017 में सिद्धू बीजेपी से कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की थी. 

उन्होंने कहा, "अगर हम इन काले कानूनों से नहीं लड़ेंगे, तो सब कुछ अंबानी और अडानी के पास जाएगा, जो बड़े वकीलों के साथ आएंगे. मुझे नहीं पता कि किसान तब कैसे निपटेंगे. केंद्र सरकार हमारी सुनिश्चित आय छीनना चाहती है." 

Newsbeep

किसान बिल : सिद्धू का शायराना अंदाज में वार - जिन्हें हम हार समझे थे गला सजाने को, वही अब नाग बन बैठे...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि नए विवादित कृषि कानून (Farm Laws) को लेकर पंजाब समेत कई जगह किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. राहुल गांधी ने पंजाब के किसानों से वादा किया है कि उनकी पार्टी के सत्ता में आने के बाद कृषि क्षेत्र से जुड़े इन तीनों कानून को हटा दिया जाएगा. राहुल गांधी ने न्यूनतम समर्थन मूल्य, खाद्य खरीद और थोक बाजारों को देश के तीन स्तम्भ बताते हुए कहा कि "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस व्यवस्था को ध्वस्त करना चाहते हैं."