एनसीपी की नजर में भगोड़े नहीं सियासत के शिकार हैं ललित मोदी!

एनसीपी की नजर में भगोड़े नहीं सियासत के शिकार हैं ललित मोदी!

ललित मोदी की फाइल फोटो

मुंबई:

ललित मोदी के राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के साथ कथित रिश्तों को लेकर सियासी बवंडर अब भी जारी है, लेकिन अब कांग्रेस की सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी के मुद्दे पर अपनी साथी का साथ छोड़ती दिख रही है।

एनसीपी खुलकर तो नहीं लेकिन दबी जुबान में कह रही है कि ललित मोदी कानूनी रूप से भगोड़े नहीं हैं। ललित मोदी के इमीग्रेशन दरख्वास्त में उनकी पवार और पटेल के साथ दोस्ती का ज़िक्र भी है, जहां वो कहते हैं, 'मेरी प्रफुल्ल पटेल और शरद पवार से बातचीत हुई, दोनों ने मुझसे कहा है कि अगर मैं भारत वापस लौटा तो मुझे फौरन हिरासत में ले लिया जाएगा।'

हालांकि कानूनी तौर पर ललित मोदी को भगोड़ा नहीं करार दिया जा सकता, लेकिन अब साफ तौर पर सियासत में कांग्रेस की सहयोगी एनसीपी ललित मोदी के मुद्दे पर बीजेपी के साथ खड़ी नजर आ रही है, उस पार्टी के खिलाफ नजर आ रही है जिसमें शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल दोनों मंत्री थे।

Newsbeep

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने कहा, 'अगर उनके ख़िलाफ कोई मामला है तो उन्हें भारत में स्वीकारना चाहिए, देश में कानून और व्यवस्था बहुत सुदृढ़ है।' एनसीपी का दावा है कि ललित मोदी भी सियासत के शिकार हैं, क्रिकेट की उस दुनिया में सियासत के जहां मोदी-पवार बनाम जेटली-श्रीनिवासन का पावर गेम माना जाता रहा है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एनसीपी नेता और वरिष्ठ वकील माजिद मेमन ने एनडीटीवी से कहा, 'हां मुझे ऐसा लगता है कि वो राजनीति के शिकार हैं, ये सब जानते हैं कि श्रीनिवासन उन्हें बाहर करने के लिए ही आए थे, और मेरी निजी राय में श्रीनिवासन बहुत साफ सुथरे नहीं हैं।' वैसे सालों से ललित मोदी अपने दोस्तों और दुश्मनों की जो फेहरिस्त बनाते रहे हैं, ये दोस्ती भी उसी लिस्ट का हिस्सा भर है, जिसमें जाने कितने नाम और भी हैं।