NDTV Khabar

शिवसेना के साथ गठबंधन के लिए NCP ने रखी मुख्यमंत्री बनाने की शर्त - सूत्र 

ऐसी खबरें भी आ रही हैं कि शिवसेना अभी भी एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत कर रही है. वह चाहती है कि किसी भी हालत में वह बीजेपी के साथ गए बगैर राज्य में अपनी सरकार बनाए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिवसेना के साथ गठबंधन के लिए NCP ने रखी मुख्यमंत्री बनाने की शर्त - सूत्र 

शरद पवार ने शिवसेना के सामने रखी मांग

खास बातें

  1. शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-एनसीपी में बात
  2. महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर स्थिति साफ नहीं
  3. राज्यपाल ने लगाया राष्ट्रपति शासन
मुंबई :

महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP और कांग्रेस के गठबंधन द्वारा सरकार बनाने का दावा पेश करने में हो रही देरी को देखते हुए राज्यपाल ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का ऐलान किया है. हालांकि, ऐसी खबरें भी आ रही हैं कि शिवसेना अभी भी एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत कर रही है. वह चाहती है कि किसी भी हालत में वह बीजेपी के साथ गए बगैर राज्य में अपनी सरकार बनाए. इन सब के बीच सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शिवसेना के आगे कई बड़ी शर्तें रखी हैं. जिनमें से एक शर्त अपना मुख्यमंत्री बनाने की भी है. सूत्रों के अनुसार एनसीपी ने शिवसेना से कहा है कि सेना की तुलना में एनसीपी के पास सिर्फ दो सीटें ही कम हैं. ऐसे में हम भी अपना मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं. 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- सरकार बनाने के लिए BJP अभी भी कर रही संपर्क


शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने मंगलवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी भाजपा महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए अनाधिकारिक माध्यमों से अभी भी संपर्क कर रही है. ठाकरे ने कहा, "वे हर बार अस्पष्ट और अलग-अलग प्रस्ताव दे रहे हैं. लेकिन हमने कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ जाने का निर्णय लिया है." इसके थोड़ी ही देर बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने उद्धव के बयान की एक तरह से पुष्टि करते हुए कहा कि पार्टी ने उन्हें सरकार गठन के लिए भाजपा संग गठबंधन को फिर से जिंदा करने पर शिवसेना को समझाने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए लगा रखा है. राणे ने कहा, "हम 145 सदस्यों के एक सामान्य बहुमत की कोशिश में लगे हुए हैं, हमारा यही लक्ष्य है और हम राज्यपाल को उसे सौंपेंगे. मुझे नहीं लगता कि शिवसेना राकांपा-कांग्रेस के साथ जाएगी. वे शिवसेना को मोहरा बना रहे हैं." 

शरद पवार-सोनिया गांधी के बीच हुए एक फोन कॉल ने चौपट कर दिया शिवसेना का प्लान

ठाकरे ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के उस बयान का जिक्र करते हुए भाजपा पर हमला बोला, जिसमें उन्होंने कहा कि शिवसेना ने औपचारिक रूप से पहली बार सोमवार को उनसे (कांग्रेस-राकांपा) संपर्क किया. उद्धव ने कहा, "वे हमारे ऊपर भाजपा को छोड़कर हर किसी से पहले से ही बात करने आरोप लगा रहे हैं, लेकिन अब सच्चाई सामने आ गई है. हमारे पास बातचीत का समय था, लेकिन मैं इस दिशा में नहीं जाना चाहता था, जिस दिशा में चर्चा हो रही है." उन्होंने यह भी कहा कि राज्यपाल बी.एस. कोश्यारी ने किस तरह उन्हें दो दिन का समय नहीं दिया, लेकिन अब उन्होंने दूसरे दलों को समर्थन पत्र के लिए छह महीने (राष्ट्रपति शासन) का समय दे दिया. 

राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद बोले उद्धव- 'शिवसेना, कांग्रेस और NCP मिलकर...'

टिप्पणियां

ठाकरे ने भाजपा की चुटकी पर चुटी लेते हुए कहा, "जब से उन्होंने हमें शुभकामनाएं दी हैं, लगता है यह हमें दिशा दिखा रहा है. हम उन्हें निराश नहीं करेंगे." कांग्रेस-राकांपा के साथ वैचारिक मतभेदों के सवाल पर ठाकरे ने भाजपा द्वारा विपरीत विचारधारा की पार्टियों से किए गए गठबंधन पर सवाल उठा दिया, जिसमें नीतीश कुमार, रामविलास पासवान, चंद्रबाबू नायडू और अन्य शामिल हैं. 

VIDEO: महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, राज्यपाल की सिफारिश को राष्ट्रपति की मंजूरी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Bigg Boss 13: आसिम रियाज के फैन्स के लिए खुशखबरी, बॉलीवुड में मिला ब्रेक!

Advertisement