NCP के वरिष्ठ नेता डीपी त्रिपाठी का 67 साल की उम्र में हुआ निधन

डीपी त्रिपाठी का जन्म 29 नंवबर 1952 को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में हुआ था. वह जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

NCP के वरिष्ठ नेता डीपी त्रिपाठी का 67 साल की उम्र में हुआ निधन

डीपी त्रिपाठी का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को निधन हो गया.

खास बातें

  • 67 साल की उम्र में हुआ एनसीपी के वरिष्ठ नेता डीपी त्रिपाठी का निधन
  • एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने ट्वीट कर उनके निधन की जानकारी दी
  • डीपी त्रिपाठी पिछले काफी वक्त से बीमार थे
नइ दिल्ली:

नेशनल कांग्रेस पार्टी (NCP) के वरिष्ठ नेता डीपी त्रिपाठी (DP Tripathi) का गुरुवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया. वह काफी समय से बीमार थे. देवी प्रसाद त्रिपाठी का 67 साल की उम्र में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. बता दें, डीपी त्रिपाठी का जन्म 29 नंवबर 1952 को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में हुआ था. वह जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. उन्होंने अपने राजनीति करियर की शुरुआत कांग्रेस (Congress) से की थी. हालांकि, बाद में वह एनसीपी में शामिल हो गए थे. सुप्रिया सुले (Supriya Sule) ने उनके निधन की जानकारी दी. 

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार होते ही NCP के नेता हुए नाराज, इस्तीफे का किया ऐलान

एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने ट्वीट करते हुए लिखा, ''डीपी त्रिपाठी के निधन के बारे में सुनकर काफी दुख हुआ. वो एनसीपी के महासचिव थे. हम सभी के मार्गदर्शक और संरक्षक थे. हम उनके परामर्श और मार्गदर्शन को याद रखेंगे, जो उन्होंने एनसीपी की स्थापना के वक्त किया था. उनकी आत्मा को शांति मिले''. 

Newsbeep

नेशनल कांग्रेस पार्टी के नेता नवाब मलिक ने भी ट्वीट करते हुए डीपी त्रिपाठी के निधन पर शोक व्यक्त किया है. नवाब मलिक ने अपने ट्वीट में लिखा, ''पूर्व राज्यसभा सांसद और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के महासचिव डीपी त्रिपाठी की मृत्यु की खबर दुखद है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विस्तार के लिए उन्होंने अपना बहुमूल्य योगदान दिया है. डीपी त्रिपाठी जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि''. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें, डीपी त्रिपाठी 3 अप्रैल 2012 से 2 अप्रैल 2018 तक महाराष्ट्र में राज्यसभा के सांसद रहे हैं. इसके अलावा वह एनसीपी के महासचिव और प्रमुख प्रवक्ता थे.