हापुड़ मॉब लिन्चिंग : कई राजनीतिक दलों ने आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी की मांग उठाई

एनडीटीवी के स्टिंग आपरेशन में खुलासा हुआ कि इस दर्दनाक घटना के आरोपी राकेश सिसोदिया ने अपना ज़ुर्म कबूल लिया

हापुड़ मॉब लिन्चिंग : कई राजनीतिक दलों ने आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी की मांग उठाई

एनडीटीवी के स्टिंग ऑपरेशन में आरोपी ने गुनाह कबूल किया है.

खास बातें

  • राज्यसभा सांसद केटीएस तुलसी ने कहा तुरंत गिरफ्तारी हो
  • आरोपी पर NSA के तहत मुकदमा दर्ज़ करने की मांग
  • हापुड़ मॉब लिन्चिंग की घटना की जांच को लेकर कई सवाल खड़े हुए
नई दिल्ली:

एनडीटीवी के स्टिंग आपरेशन के बाद कई राजनीतिक दलों ने हापुड़ मॉब लिन्चिंग के आरोपी राकेश सिसोदिया की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है. मंगलवार को कई सांसदों ने इस घटना पर चिंता जताई और मांग की कि इस पूरी घटना की नए सिरे से जांच बेहद जरूरी है.  

हापुड़ मॉब लिन्चिंग की घटना फिर सवालों के घेरे में है. एनडीटीवी के स्टिंग आपरेशन में ये खुलासा हुआ कि इस दर्दनाक घटना के आरोपी राकेश सिसोदिया ने अपना ज़ुर्म कबूल लिया है. अब उसकी गिरफ्तारी की मांग तेज हो गई है.

मशहूर क्रिमिनल लायर और राज्यसभा सांसद केटीएस तुलसी ने एनडीटीवी से कहा, "हापुड़ माब लिन्चिंग केस के आरोपी को तुरंत गिरफ्तार करना बेहद ज़रूरी है क्योंकि वह समाज के लिए एक बड़ा खतरा है. इस मामले में आरोपी ने अपनी हत्या में भूमिका कबूली है. बयान देते समय उस पर कोई दबाव नहीं था. ये सच ही होगा." जबकि पूर्व कानून मंत्री कपिल सिब्बल ने एनडीटीवी से कहा, "हम लिंच मोड में हैं. कुछ लोग ये समझते हैं कि वे मानव की हत्या कर सकते हैं लेकिन गाय का व्यापार नहीं होना चाहिए."

यह भी पढ़ें : NDTV खबर का असर : सुप्रीम कोर्ट पहुंचा हापुड़ लिंचिंग मामला, केस की सुनवाई यूपी से बाहर कराने की मांग

कुछ सांसदों ने हापुड़ माब लिन्चिंग के आरोपी पर NSA के तहत मुकदमा दर्ज़ करने की मांग की. बीजेपी सांसद विनय सहस्रबुद्दे ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा- दोषी को कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए. सहस्रबुद्धे ने कहा, "इस पूरे केस की तह तक जाकर जो दोषी हैं उनको कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए. मुझे खुशी है कि सरकार में मॉब लिन्चिंग को लेकर नए कानून पर मंत्रणा शुरू हो गई है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : आरोपियों को मिले कड़ी सजा

एनडीटीवी के स्टिंग आपरेशन से हापुड़ मॉब लिन्चिंग की घटना की जांच को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. अगर सरकार ने इस मामले में सख्ती से कार्रवाई नहीं की तो उसकी साख पर सवाल उठते रहेंगे.