बिंदास कंगना रनोट का है अंदाज निराला : NDTV Youth For Change कॉनक्‍लेव में कहीं 7 खास बातें

आइए जानें वे 10 खास बातें जो कंगना रनोट ने इस कार्यक्रम के दौरान कहीं... 

बिंदास कंगना रनोट का है अंदाज निराला : NDTV Youth For Change कॉनक्‍लेव में कहीं 7 खास बातें

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रानौत...

खास बातें

  • NDTV Youth For Change कॉनक्‍लेव में आई हुई हैं कंगना
  • मंच पर बोलीं- छोटे शहरों की अपनी कमियां हैं और बड़े शहरों की अपनी
  • यह भी बोलीं- मैं राजपूत घराने से हूं, जहां हमेशा घूंघट में ही हर काम करना
नई दिल्ली:

दिल्‍ली में NDTV Youth For Change कॉनक्‍लेव में 28  अगस्त यानी आज न सिर्फ बॉलीवुड की कई हस्तियां हिस्‍सा बन रही हैं बल्कि अन्य फील्ड्स के लोग भी शामिल हो रहे हैं. बॉलीवुड की 'क्‍वीन' कहलाने वाली कंगना रनोट के अलावा इसमें निर्देशक हंसल मेहता, एक्‍टर अर्जुन कपूर, अजय देवगन, इलियाना डिक्रूज, इमरान हाशमी, ईशा गुप्‍ता, विद्युत जमवाल, रणदीप हुड्डा जैसे दिग्गज शामिल हो रहे हैं. 

आइए जानें वे 7 खास बातें जो कंगना रनोट ने इस कार्यक्रम के दौरान कहीं... 

1- जब मैंने काम शुरू किया था तब अपने शरीर, अपने रंग को लेकर हर किसी में शर्मिंदगी थी. हर किसी को हरियाणवी एक्‍सेंट दिखा वह नया लगा, क्‍योंकि वह कभी दिखाया ही नहीं गया था. 

पढ़ें- मंडी से मुंबई तक, जानें 'गैंगस्टर' से कैसे बॉलीवुड की 'क्वीन' बनीं कंगना रनोट

2-छोटे शहरों की अपनी कमियां हैं और बड़े शहरों की अपनी. छोटे शहरों के लोग बुआ जी मौसीजी के बारे में सोचते हैं. 

3- जब मैं फिल्‍म स्‍टार बन गई तब भी मुझे मेरे रिश्‍तेदार ऐसी नजर से देखते हैं कि यह क्‍या चीज है? यह एक्‍टर कैसे बन गईं?

4- मैं राजपूत घराने से हूं, जहां हमेशा घूंघट में ही हर काम करना होता है. मेरे दादाजी बहुत पुरानी मानसिकता के थे. मेरा दादा आईएस अधिकारी थे, दादा से पहले खाना खा लो वह डांटते थे.

5- एक बार पिता का फोन आया और दादा जी बात कर रहे थे, तभी मैंने उनसे कहा कि मुझे बात करनी है तो उन्‍होंने मना कर दिया. मैंने थोड़े जोर से कहा कि बात करनी है तो उन्‍होंने मुझे जोर से थप्‍पड़ मारा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

6- मेरे पिता मेरे भाई अक्षत को कहते थे कि कमांडो बनो, लेकिन जब मैं पूछती थी कि मैं क्‍या बनूंगी तो वह कहते थे कि तुम्‍हारी तो शादी हो जाएगी.

वीडियो- फिल्म मणिकर्णिका के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं कंगना रनोट
7- मेरे माता पिता पढ़ाई के विरोध में नहीं थे लेकिन मुझे हमेशा पैकेज समझा जाता है.