'पराक्रम दिवस' के तौर पर मनाया जाएगा नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्मदिन, केंद्र सरकार का बड़ा फैसला 

भारत सरकार ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष को 23 जनवरी 2021 से आरंभ करने का निर्णय लिया है, ताकि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनका सत्कार किया जा सके.

'पराक्रम दिवस' के तौर पर मनाया जाएगा नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्मदिन, केंद्र सरकार का बड़ा फैसला 

सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाने का निर्णय (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देश के महान स्वतंत्रता सेनानी और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती से पहले सरकार ने बड़ा ऐलान किया है. भारत सरकार ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) के जन्मदिन (23 जनवरी) को 'पराक्रम दिवस' के तौर पर मनाने का फैसला किया है. इस साल सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती वर्ष की शुरुआत 23 जनवरी को उनके जन्मदिन से होगी. भारत सरकार ने इसके लिए आज एक गजट नोटिफिकेशन जारी किया है.  23 जनवरी को नेता जी की जयंती है.

सरकार के इस फैसले को पश्चिम बंगाल के चुनाव से जोड़ा जा रहा है. यह निर्णय पश्चिम बंगाल चुनाव (West Bengal Assembly Polls) के मद्देनजर महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

गजट नोटिफिकेशन में कहा गया, "भारत सरकार ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष को 23 जनवरी 2021 से आरंभ करने का निर्णय लिया है, ताकि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनका सत्कार किया जा सके." 

a1gpnj7gकेंद्र सरकार ने जारी किया गजट नोटिफिकेशन

इसमें कहा गया है कि नेताजी की अदम्य भावना और राष्ट्र के लिए उनके नि:स्वार्थ सेवा के सम्मान में और उनको याद रखने के लिए सरकार ने हर साल 23 जनवरी पर उनके जन्मदिन को "पराक्रम दिवस" के रूप में मनाने का फैसला किया है. इससे देश के लोगों, विशेषकर युवाओं को विपत्ति का सामना करने के लिए नेताजी के जीवन से प्रेरणा मिलेगी और उनमें देशभक्ति और साहस की भावना समाहित होगी.

वीडियो: पश्चिम बंगाल के जननायकों को लेकर बीजेपी और टीएमसी में छिड़ी जंग

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com