नई शिक्षा नीति : विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा, एमफिल के किसी भी छात्र को डरने की जरूरत नहीं

विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा- एमफिल की डिग्री को खत्म करने के प्रावधान को अमल में लाने के लिए एक प्रक्रिया होगी, यह कोई स्विच ऑफ स्विच ऑन की तरह खत्म नहीं किया जा सकता

नई शिक्षा नीति : विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा, एमफिल के किसी भी छात्र को डरने की जरूरत नहीं

संसद की मानव संसाधन विकास की स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमेन विनय सहस्त्रबुद्धे (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

New education policy : बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और संसद की मानव संसाधन विकास की स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमेन विनय सहस्त्रबुद्धे (Vinay Sahastrabuddhe) ने एनडीटीवी से नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में एमफिल के पाठ्यक्रम को हटाने के मामले में कहा कि यह सवाल अनावश्यक है. एमफिल (MPhil) की डिग्री को खत्म करने के प्रावधान को अमल में लाने के लिए एक प्रक्रिया होगी. यह कोई स्विच ऑफ स्विच ऑन की तरह खत्म नहीं किया जा सकता. 

उन्होंने कहा कि किसी भी एमफिल के छात्र को डरने की जरूरत नहीं है. जो एमफिल कर रहे हैं वह जरूर एमफिल करें. पहले जो लोग पीएचडी नहीं कर सकते थे उनके लिए एमफिल की व्यवस्था लाई गई थी. 

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने नई शिक्षा नीति को 'हाईली रेगुलेटेड और पुअरली फंडेड' बताया

उन्होंने कहा कि इस सरकार में रिसर्च पर ज्यादा जोर है इसलिए पीएचडी पर फोकस किया गया है. दुनिया के कई जगहों में ग्रेजुएशन के बाद भी छात्रों को पी एच डी में करने का विकल्प होता है. एमफिल की वैल्यू बनी रहेगी किसी भी छात्र को डरने की कोई जरूरत नहीं है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com