NDTV Khabar

मोदी कैबिनेट में मंत्री बनाए गए अनंत कुमार हेगड़े कई बार गलत वजहों से रह चुके हैं सुर्खियों में

इसी साल जनवरी में अनंत कुमार हेगड़े ने सिरसी के एक अस्पताल में डॉक्टरों की पिटाई कर दी थी.

21 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मोदी कैबिनेट में मंत्री बनाए गए अनंत कुमार हेगड़े कई बार गलत वजहों से रह चुके हैं सुर्खियों में

अनंत कुमार हेगड़े को कौशल विकास राज्य मंत्री बनाया गया है

खास बातें

  1. अनंत हेगड़े पर अस्पताल में डॉक्टर की पिटाई का आरोप
  2. पिछले साल हेट स्पीच को लेकर भी आए थे विवादों में
  3. हेगड़े को कौशल विकास राज्य मंत्री बनाया गया है
बेंगलुरु: नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में रविवार को जो नए मंत्री शामिल किए गए हैं, उनमें कर्नाटक के सांसद अनंत कुमार हेगड़े का भी नाम है. हेगड़े का विवादों से पुराना नाता रहा है. कौशल विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री के तौर पर कर्नाटक के उत्तर कन्नडा ज़िले से बीजेपी सांसद अनंत कुमार हेगड़े भले ही एक नई पारी की शुरुआत कर रहे हों, लेकिन वो गलत वजहों से कई बार सुर्खियों में रहे हैं. इसी साल जनवरी में अनंत कुमार हेगड़े ने सिरसी के एक अस्पताल में डॉक्टर की पिटाई कर दी थी. बताया गया कि डॉक्टर ने उनकी मां के इलाज में ढिलाई बरती, जिससे उन्हें गुस्सा आ गया.

यह भी पढ़ें: मोदी के इस नए मंत्री से पंगा मत लेना! मार्शल आर्ट से कर देते हैं चित

पिछले साल हेट स्पीच की वजह से भी वह सुर्खियों में आए थे. उन्होंने कहा था कि आतंकवाद तभी खत्म होगा जब इस्लाम का दुनिया से खात्मा हो जाए. यही नहीं, बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद पुलिस ने उन पर तटीय कर्नाटक में दंगा भड़काने का आरोप भी लगाया था.

यह भी पढ़ें: कैबिनेट फेरबदल: जानें किन मंत्रालयों के कद घटाए गए, किन्हें दी गई अहमियत?

कर्नाटक में तटीय इलाका बीजेपी का कभी मज़बूत गढ़ हुआ करता था. पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने इन इलाकों में बीजेपी को पछाड़ दिया. ऐसे में बीजेपी अनंत कुमार हेगड़े को आगे बढ़ाकर यहां अपनी पकड़ मजबूत करने की कोशिश कर रही है. संघ से भी हेगड़े के रिश्ते काफी अच्छे हैं.

VIDEO : अनंत कुमार हेगड़े पर डॉक्टर की पिटाई का आरोप
हेगड़े को मंत्री बनाए जाने पर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कड़ी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि हेगड़े का सांप्रदायिक रूप से ध्रुवीकरण करने के प्रयास करने का पुराना रिकॉर्ड रहा है. उन्हें सरकार में शामिल करने से यह स्पष्ट संकेत है कि बीजेपी कर्नाटक में सांप्रदायिकता फैलाना चाहती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement