NDTV Khabar

अन्य ट्रेनों में भी लगाए जाएंगे राजधानी और शताब्दी जैसे डिब्‍बे...

रेल डिब्बों को बेहतर बनाने के काम की शुरुआत पिछले वर्ष हुई थी लेकिन इसमें केवल राजधानी और शताब्दी जैसी ट्रेनों को शामिल किया गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अन्य ट्रेनों में भी लगाए जाएंगे राजधानी और शताब्दी जैसे डिब्‍बे...

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली: रेलवे ट्रेन कोचों को उन्नत बनाने की परियोजना के तहत अब दूसरी श्रेणी की ट्रेनों के डिब्बों को भी राजधानी और शताब्दी की तरह शानदार बनाया जाएगा. रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक के एक नोट में यह बात कही गयी है. ‘स्वर्ण’ परियोजना के तहत कोचों को उन्नत बनाने का काम किया जाएगा. रेल डिब्बों को बेहतर बनाने के काम की शुरुआत पिछले वर्ष हुई थी लेकिन इसमें केवल राजधानी और शताब्दी जैसी ट्रेनों को शामिल किया गया था. इस महीने की शुरुआत में हुई बैठक के कार्य विवरण में कहा गया है, ‘‘स्वर्ण परियोजना को दूसरी श्रेणी के ट्रेनों के लिए भी विस्तारित किया जाएगा. ट्रेनों को चुनने के लिए अभिजात्यवादी रुख नहीं अपनाया जाएगा.’’

एक मार्च से ट्रेनों पर नहीं लगाए जाएंगे आरक्षण चार्ट...
आगामी पहली मार्च से ए1, ए और बी श्रेणी के रेलवे स्टेशनों पर सभी ट्रेनों के कोच पर आरक्षण चार्ट नहीं लगाए जाएंगे. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि शुरुआत में यह व्यवस्था पायलट आधार पर छह महीने के लिए लागू की जा रही है. रेल मंत्रालय ने अपने सभी जोनों को इस बारे में निर्देश जारी किए हैं. मंत्रालय ने हालांकि, कहा है कि प्लेटफार्मों पर आरक्षण चार्ट लगाया जाएगा. इसके अलावा डिजिटल रूप में भी इसे देखा जा सकेगा. यात्रियों से होने वाली आय के आधार पर रेलवे ने अपने स्टेशनों को सात श्रेणियों ए1, ए, बी, सी, डी, ई और एफ के रूप में वर्गीकृत किया है. रेलवे के कुल 17 जोन हैं. रेलवे ने कहा है कि ऐसे स्टेशन जहां इलेक्ट्रानिक चार्ट डिस्प्ले प्लाज्मा लगा है और वह बेहतर तरीके से काम कर रहा है, तो वहां के प्लेटफार्मों पर चार्ट लगाना रोका जा सकता है.

टिप्पणियां
VIDEO: मुंबई में रेल यात्रियों की मुहिम, 'बैग पकड़ जगह बना'

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement