NDTV Khabar

कांग्रेस ने अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी, जबकि आरएसएस के नेता उनसे दया की भीख मांग रहे थे : राहुल गांधी

राहुल ने कहा कि कांग्रेस की सरकार देश के गरीबों को सीधे उनके बैंक खाते में बिना किसी बिचौलिए के न्यूनतम वेतन देगी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश में पहली बार न्यूनतम वेतन दिया जाएगा
  2. कहा- सच्चाई बदली नहीं जा सकती, धीरे-धीरे राफेल की सच्चाई सामने आ रही है
  3. कहा- मोदी जी मेहुल चौकसी को मेहुल भाई, अनिल अंबानी को अनिल भाई बुलाते हैं
नई दिल्ली:

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा, 'आरएसएस (RSS) भ्रम में है क्‍योंकि वो सोचते हैं कि वो भारत से बड़े हैं. वो सोचते हैं कि वो देश में ज्ञान के अधिकारी और स्रोत हैं. यह एकदम गलत है, इस देश में ज्ञान का केवल एक स्रोत है और वो हैं लोग.' उन्होंने कहा कि कांग्रेस सावरकर का संगठन नहीं है जो अंग्रेजों के सामने गिड़गिड़ाए. ये गांधी का संगठन है. हम पीछे हटने वाले नहीं है, हम फ्रंट फुट पर खेलेंगे और मोदी को देश की आवाज सुनाएंगे.

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस (Congress) ऐसा संगठन है जिसने अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी, जबकि आरएसएस के नेता उनसे दया की भीख मांग रहे थे. उन्होंने कहा कि भारत में रोजगार का संकट है, भारत में कृषि का संकट है और मोदी जी ने साबित कर दिया है कि वे इसे दूर करने में सक्षम नहीं हैं. नोटबंदी, जीएसटी ने नौकरियों को खत्म कर दिया. नौकरियों के बारे में पूछने पर मोदी जी कहते हैं 'पकौड़े' बनाओ.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को भारतीय युवा कांग्रेस (Youth Congress) की 'इंकलाब रैली' को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने न्यूनतम वेतन का अधिकार देने का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि 2019 में कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है. इसके बाद कांग्रेस सरकार देश के गरीबों को सीधे उनके बैंक खाते में बिना किसी बिचौलिए के न्यूनतम वेतन देगी. इतने बड़े देश में ऐसा पहली बार होगा.


युवा कांग्रेस की 'युवा क्रांति यात्रा' के समापन के मौके पर दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 'इंकलाब रैली' का आयोजन किया गया. राहुल गांधी ने अपने संबोधन की शुरुआत सत श्री अकाल, वड़क्कम और नमस्कार से की. उन्होंने कहा कि साढ़े चार पहले मोदी जी ने कहा था कि देश से कांग्रेस को खत्म कर दूंगा. कहते थे, मुझे पीएम नहीं बनना चौकीदार बनना है. इसके बाद राहुल ने 'चौकीदार चोर है' के नारे लगवाए.

राहुल गांधी ने कहा कि हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था. क्या युवाओं को रोजगार मिला? युवाओं को रोजगार नहीं दिया. लेकिन फ्रांस के राष्ट्रपति ने बताया कि मोदी ने उनसे कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी डील का कॉन्ट्रेक्ट चाहिए तो अनिल अंबानी को कॉन्ट्रेक्ट देना ही पड़ेगा. HAL का कॉन्ट्रेक्ट छीन लिया.

राहुल ने कहा कि कल मैं पर्रिकर जी से मिला. उन्होंने खुद कहा था कि डील बदलते समय प्रधानमंत्री ने रक्षा मंत्री से नहीं पूछा. 56 इंच की छाती वाले पीएम ने लोकसभा में डेढ़ घंटे के भाषण में राफेल के सवालों का जवाब नहीं दिया. आंख से आंख नहीं मिला पाया चौकीदार.

यह भी पढ़ें : पर्रिकर से मुलाकात के बाद बोले राहुल गांधी- उन्होंने मुझे बताया उनका नए राफेल सौदे से कोई लेना-देना नहीं

उन्होंने कहा कि प्रेस पर दबाव है. सच्चाई को बदला नहीं जा सकता. धीरे-धीरे राफेल की सच्चाई जनता के सामने आ रही है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तुंरत बाद सीबीआई निदेशक को हटा दिया जाता है. रक्षा मंत्री राफेल का दाम नहीं बता सकतीं लेकिन रिलायंस और दसॉल्ट अपनी वार्षिक रिपोर्ट में राफेल का दाम लिखते हैं. जल्द राफेल मामले में दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा क्योंकि ये जानकारी सरकार के अंदर से आ रही है. मोदी ने प्रक्रिया तोड़ी है. अनिल अंबानी की मदद करने के लिए बातचीत की धज्जियां उड़ा दीं.  

राहुल ने कहा कि पर्रिकर कैबिनेट मीटिंग में कहते हैं, मेरे पास राफेल की फाइल है. मुझे कोई मुख्यमंत्री पद से नहीं हटा सकता. उनके मंत्री के ऑडियो को पूरे देश ने सुना. प्रधानमंत्री जी.. आपको रात में नींद नहीं आ रही. सोते वक्त अनिल अंबानी, राफेल, वायुसेना के शहीदों की फोटो नजर आती हैं. मोदी जी ने हिंदुस्तान की वायुसेना को बेचा है. देश जानता है कि आप मेहुल चौकसी को मेहुल भाई, अनिल अंबानी को अनिल भाई बुलाते हैं.

यह भी पढ़ें :  राहुल गांधी का एक और वादा, बोले- सत्ता में आए तो सबसे पहले महिला आरक्षण विधेयक पारित कराएंगे


उन्होंने कहा कि 15 उद्योगपतियों का कर्जा माफ किया. किसान अपना कर्जा माफ करने की मांग कर रहे हैं लेकिन नरेंद्र मोदी को कुछ सुनाई नहीं देता. उन्होंने 15 लोगों का साढ़े तीन लाख करोड़ माफ किया. हमने दो दिन में किसानों का कर्जा माफ किया. कांग्रेस सच्चाई की रक्षा करती है, वे झूठ की रक्षा करते हैं. देश में पैसे की कोई कमी नहीं है. किसानों से कहा जाता है कर्जा वापस दो, अनिल अंबानी से क्यों नहीं कहते?

राहुल गांधी ने कहा कि प्रेस वाले कहते हैं, कर्जा माफ किया तो आदत बिगड़ जाएगी. क्या माल्या, अंबानी, मेहुल की आदत नहीं बिगड़ी?  आप उनकी आदत बिगाड़ेंगे तो हम किसानों की आदत बिगाड़ेंगे. अमीरों का कर्जा माफ होगा तो किसानों का कर्जा भी माफ होगा. मोदी कभी-कभी डर जाते हैं, फिर पैनिक हो जाते हैं. नोट बंद कर देते हैं,  झाड़ू पकड़ा देते हैं. ये अनिल अंबानी को झाड़ू क्यों नहीं पकड़ाते? अनिल जी एक टैक्स देंगे, बाकी लोग 5-5 टैक्स देंगे. रोजगार की धज्जियां उड़ा दीं. कहते हैं पकौड़ा बनाओ.. नाले की गैस से ढाबे पर खाना बनाने का जिक्र करते हैं! मोदी जी अपने सामने पाइप लगाओ.. देखो गैस निकलती है या नहीं?

यह भी पढ़ें : 'राफेल के राज' सबंधी टिप्‍पणी के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मिले राहुल गांधी

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आग लगा दी.. हरियाणा में लड़वा दिया. 2014 में हम सबको जनता ने सबक सिखाया, अच्छा हुआ. कहा गया कि तुम में घमंड आ गया है, घमंड खत्म करो और लोगों से बात करो. मोदी कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते थे लेकिन अब उनको हर तरफ कांग्रेस दिखाई देती है.

 

159t7ma8

दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित युवा कांंग्रेस की रैली में शामिल कार्यकर्ता.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस हर दस साल में देश को विजन देती है. समय आ गया है कि कांग्रेस लोगों को रास्ता दे. कांग्रेस ने सफेद क्रांति दी, हरित क्रांति शुरू की, बैंकों का राष्ट्रीयकरण, उदारीकरण, मनरेगा, शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार, भोजन का अधिकार दिया. अब नया समय आ गया है.. 2014 में जो नहीं चला मोदी उसी को चलाने का काम कर रहे हैं. हमने निर्णय लिया है कि न्यूनतम वेतन के अधिकार का. 2019 में कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है.. इसके बाद सरकार देश के गरीबों को सीधा उनके बैंक खाते में बिना किसी बिचौलिए के न्यूनतम वेतन देगी. इतने बड़े देश में ऐसा पहली बार होगा और कांग्रेस इसे सफलतापूर्वक इसे पूरा करेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस उद्योगपतियों के खिलाफ नहीं है. हम क्रोनी कैपटलिज्म के खिलाफ हैं.. जैसे माल्या, मेहुल, नीरव मोदी.

VIDEO : न्यूनतम आय गारंटी का वादा

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि हम एक संगठन की आवाज नहीं हैं, हम सवा सौ करोड़ लोगों की आवाज हैं. ये हममें और उनमें अंतर है. ये सावरकर का संगठन नहीं है जो अंग्रेजों के सामने गिड़गिड़ाए. ये गांधी का संगठन है. हम पीछे हटने वाले नहीं है, हम फ्रंट फुट पर खेलेंगे और मोदी को देश की आवाज सुनाएंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement