गडकरी की NHAI चेयरमैन, टोल ऑपरेटरों को सलाह, प्रवासी मजदूरों के लिए खाना-पानी की व्यवस्था करें 

गडकरी ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, "संकट के इस समय में हमें अपने साथी नागरिकों की मदद करनी चाहिए. मुझे भरोसा है कि टोल ऑपरेटर मेरे इस आह्वान पर ध्यान देंगे."

गडकरी की NHAI चेयरमैन, टोल ऑपरेटरों को सलाह, प्रवासी मजदूरों के लिए खाना-पानी की व्यवस्था करें 

नितिन गडकरी ने एनएचएआई चेयरमैन और टोल संचालकों को दी सलाह (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कोरोना लॉकडाउन के बीच फंसे प्रवासी श्रमिकों को लेकर गडकरी की प्रतिक्रिया
  • गडकरी ने उनके खाने-पीने की व्यवस्था करने पर विचार करने के लिए कहा
  • मुश्किल की इस घड़ी में साथी नागरिकों की मदद करनी चाहिए : गडकरी
नई दिल्ली :

कोरोनावायरस के खतरे से निपटने के लिए देशभर में लॉकडाउन का ऐलान किया गया है. इस दौरान, लोगों को घर से निकलने के लिए मना किया गया है. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि मैंने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के चेयरमैन और टोल ऑपरेटरों को सलाह दी है कि वे ऐसे प्रवासी श्रमिकों और नागरिकों के लिए भोजन, पानी की व्यवस्था करने या अन्य किसी तरह की मदद देने पर विचार करें, जो अपने मूल स्थानों की ओर जाने की कोशिश कर रहे हैं. 

गडकरी ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, "संकट के इस समय में हमें अपने साथी नागरिकों की मदद करनी चाहिए. मुझे भरोसा है कि टोल ऑपरेटर मेरे इस आह्वान पर ध्यान देंगे."

इससे पहले, कोरोनावायरस के संक्रमण को देखते हुए केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा था कि आपात सेवाओं का काम आसान करने के लिए देश में अस्थायी तौर पर राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल नहीं लिया जाएगा. केंद्रीय मंत्री ने कहा था, ‘कोविड-19 को देखते हुए आदेश दिया जाता है कि देश के सभी टोल प्लाजा पर टोल लेने का काम बंद किया जाए.' उन्होंने कहा कि इससे आपात सेवाओं के काम में लगे लोगों को जरूरी समय बचाने में मदद मिलेगी. इसके साथ ही नितिन गडकरी ने कहा, 'सड़कों का रखरखाव और टोल प्लाजा पर आपातकालीन संसाधनों की उपलब्धता हमेशा की तरह जारी रहेगी.

देश में कोरोनावायरस तेजी से पैर फैला रहा है. भारत में अब तक कोरोनावायरस के 873 मामले सामने आए हैं. पिछले 24 घंटों में इस वायरस के 149 नए मामले सामने आए हैं. वहीं, इस वायरस से अब तक 19 लोगों की जान जा चुकी है.  हालांकि, थोड़ी राहत वाली बात यह है कि इस बीमारी से 79 लोग या तो ठीक हो चुके हैं या फिर उनकी स्थिति में सुधार है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com