Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

पठानकोट हमला : तार को काटकर एयरबेस में दाखिल हुए थे आतंकी !

ईमेल करें
टिप्पणियां
पठानकोट हमला : तार को काटकर एयरबेस में दाखिल हुए थे आतंकी !

पठानकोट हमले को लेकर एनआईए की टीम इलाके की देर तक छानबीन करती रही।

पठानकोट: पठानकोट आतंकी हमले को लेकर एनआईए की टीम इलाके की देर तक छानबीन करती रही। टीम हर उस इलाके में गई जहां से उसे लग रहा था कि यहां से आतंकवादियों ने एयरबेस के अंदर घुसपैठ की होगी। उसे एक जगह तार कटे हुए मिले। माना जा रहा है कि आतंकियों ने यहीं से घुसपैठ की होगी। इस बीच, गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह को पोलिग्राफ़ी टेस्ट के लिए दिल्ली लाया जा रहा है क्योंकि उसके बयानों में अब तक बहुत हेरफेर दिखा है।

एनआईए को शक, किसी इनसाइडर ने की होगी मदद
एनआईए इस हमले में किसी भीतरी मदद की आशंका से इनकार नहीं कर रही। एक अफ़सर ने NDTV इंडिया से कहा,  'इतनी भारी मात्रा में गोला बारूद पहुंचना आसान नहीं है।' उनके मुताबिक़ एक शख़्स से पूछताछ भी चल रही है जिस पर ये शक है कि उसने इलाके में लगी तीन फ्लडलाइट्स के सिरे ऊपर की ओर मोड़ दिए। एनआईए के आईजी एनके सिंह ने बताया, 'मैं सिर्फ़ इतना कह सकता हूं कि जांच चल रही है और सही दिशा में है।'

राजेश वर्मा का बयान दर्ज किया गया
उधर, इस एयरबेस से 80 किलोमीटर दूर गुरदासपुर में एनआईए की एक टीम राजेश वर्मा के घर पहुंची। टीम वहां करीब 11 बजे पहुंची और लगातार पांच घंर्ट तक पूछताछ करती रही। इससे पहले राजेश वर्मा से NIA ने अस्पताल में पूछताछ की थी, लेकिन आज उसका बयान दर्ज किया गया।  गौरतलब है कि राजेश वर्मा वह शख्‍स है जो एसपी सलविंदर सिंह के साथ आतंकियों के हत्थे चढ़ा था। एनडीटीवी की टीम ने राजेश वर्मा से बात करने की कोशिश की, लेकिन घरवाले अनिच्छुक दिखे। उनके संबंधी ने बताया, 'उन्हें बहुत चोट लगी हुयी है इसीलिए आराम कर रहे हैं।' दरअसल, राजेश को सबसे ज़्यादा चोट लगी है। उन्‍हें कई जगह टांके लगाए गए हैं।

जूतों के निशान जांच के लिए भेजे जाएंगे
इस बीच, गांव में मिले जूतों के निशान को जांच के लिए चंडीगढ़ के सीएफएसएल लैब भेजने की तैयारी है। उनका मिलान आतंकियों के जूतों से किया जाएगा।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement