Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हवाला टेरर फंडिंग केस : NIA अलगाववादी आसिया अंद्राबी और आतंकी हाफिज सईद के बीच की कड़ी का लगा रही पता

एनआईए अब अलगाववादी महिला नेता आसिया अंद्राबी, लश्कर ए तैयबा प्रमुख हाफिज सईद हाफिज और उसका बेटा तल्हा सईद के बीच की कड़ी भी पता लगाने में जुटी है. साथ ही लश्कर प्रमुख और आसिया अंद्राबी के बयानों की जांच के लिए जांच एजेंसी अमेरिका से भी मदद लेगी.

हवाला टेरर फंडिंग केस : NIA अलगाववादी आसिया अंद्राबी और आतंकी हाफिज सईद के बीच की कड़ी का लगा रही पता

हाफिज सईद (फाइल फोटो)

खास बातें

  • आसिया अंद्राबी और हाफिज सईद के बीच की कड़ी पता लगाएगी जांच एजेंसी
  • बुरहान वानी के मारे जाने के बाद लश्कर प्रमुख ने की थी आसिया से बात
  • हाफिज ने पाक में एक रैली के दौरान अासिया को मदद देने की बात कही थी
नई दिल्ली:

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पाकिस्तान से अलगाववादियों को मिलने वाली हवाला फंडिंग की जांच का दायरा बढ़ा दिया है. एनआईए अब अलगाववादी महिला नेता आसिया अंद्राबी, लश्कर ए तैयबा प्रमुख हाफिज सईद और उसके बेटे तल्हा सईद के बीच की कड़ी भी पता लगाने में जुटी है. साथ ही लश्कर प्रमुख और आसिया अंद्राबी के बयानों की जांच के लिए जांच एजेंसी अमेरिका से भी मदद लेगी. राष्ट्रीय जांच एजेंसी हाफिज सईद और आसिया अंद्राबी के उन बयानों की जांच में भी जुटी है जिसमें लश्कर प्रमुख ने आसिया अंद्राबी को अपनी बहन बताया था.

यूटूयूब और इंटरनेट पर हाफिज सईद के बयानों को कब और कहां से अपलोड किया इसका भी पता लगाया जाएगा. गौरतलब है कि हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद हाफिज सईद ने अंद्राबी से फोन पर बात की थी. साथ ही पाकिस्तान में हुई एक रैली में खुलेआम लश्कर प्रमुख ने आसिया को मदद देने की बात भी की थी. 

एनआईए जांच को और पुख्ता करने के लिए अमेरिकी एजेंसियों की मदद लेने पर विचार कर रही है. जांच एजेंसियों के हवाले से खबर है कि हाफिज सईद और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के कहने पर अलगाववादियों ने कश्मीर के कई स्कूलों पर हमले कर उन्‍हें जला दिए थे. हाफिज सईद और पाक एजेंसियों ने हवाला के जरिये अलगाववादियों को फंडिग की और इन पैसों को पत्थरबाजों और आतंकियों को दिए गए थे. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही दिल्ली में कश्मीर के तीन अलगाववादी नेताओं से एनआईए ने पूछताछ की थी. कश्मीर घाटी में अशांति फैलाने के लिए पाकिस्तान की ओर से दिए जा रहे आर्थिक मदद के सिलसिले में इन नेताओं से पूछताछ की गई थी.