NDTV Khabar

Nipah Virus: केरल में निपाह वायरस ने फिर दी दस्तक? जांच रिपोर्ट का किया जा रहा है इंतजार

Nipah Virus Kerala Latest News: केरल (Kerala) के एर्नाकुलम (Ernkaulam) के एक निजी अस्पताल में भर्ती 23 वर्षीय युवक के निपाह वायरस (Nipah virus) से संक्रमित होने का संदेह है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Nipah Virus: केरल में निपाह वायरस ने फिर दी दस्तक? जांच रिपोर्ट का किया जा रहा है इंतजार

Nipah Virus Kerala Latest News: केरल में पिछले साल मई महीने में निपाह वायरस (Nipah Virus) से 17 लोगों की मौत हो गई थी.

कोच्चि :

Nipah Virus Kerala Latest News: केरल (Kerala) के एर्नाकुलम (Ernkaulam) के एक निजी अस्पताल में भर्ती 23 वर्षीय युवक के निपाह वायरस (Nipah virus) से संक्रमित होने का संदेह है. हालांकि इसकी पुष्टि पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (National Institute of Virology) से जांच रिपोर्ट के आने के बाद ही होगी. केरल के स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने बताया कि 'हमने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) के पास सैंपल भेजा और हम उसकी रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं. केरल के स्वास्थ्य विभाग ने निपाह के प्रकोप से निपटने के लिए एहयतियाती उपाय करना शुरू कर दिए हैं. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा कि कोच्चि के कलामसेरी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अलग वार्ड बनाए गए हैं. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और एर्नाकुलम जिले के अधिकारियों ने स्थिति की समीक्षा के लिए बैठक भी की है. बैठक की अध्यक्षता प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) राजन खोबरागड़े ने की.

इंडियन होमियोपैथिकमेडिकल एसोसिएशन का दावा- खोज ली है निपाह वायरस की दवा


अधिकारियों ने बैठक के बाद बताया कि स्थिति से निपटने के लिए विशेषज्ञों की एक टीम कोझीकोड से एर्नाकुलम भेजी जा रही है. जिले के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि अस्पताल में छात्र का इलाज कर रहे डॉक्टरों से 'अच्छी' खबर मिली है. उसने सुबह में कुछ खाया था और दवाइयां भी उसपर असर कर रही हैं. एर्नाकुलम के जिला कलेक्टर मोहम्मद वाई सफ्फीरूल्ला ने कहा कि स्थिति से निपटने के लिए सरकारी और निजी अस्पतालों में क्षमता निर्माण के लिए कदम उठाए गए हैं. निपाह के संदिग्ध मामलों पर नजर रखने के लिए निगरानी टीमें गठित की गई हैं.

निपाह वायरस से बचने के लिए अपनाएं 7 आसान तरीके

उन्होंने बताया कि कलामसेरी के सरकारी मेडिकल कॉलेज में मरीजों को निपाह के संदिग्ध मामलों से अलग करने के इंतजाम किए गए हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने छात्र के साथ संपर्क में आने वाले लोगों से कहा कि अगर उन्हें बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव, उल्टी आना और गले में दर्द जैसे इंफ्लूजा जैसे लक्षण होते हैं तो नजदीकी अस्पताल में दिखाएं. त्रिशूर में स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि बुखार से पीड़ित छात्र ने त्रिशूर शहर के दो निजी अस्पतालों में चिकित्सा सहायता मांगी थी, जहां वह अपने पाठ्यक्रम के तहत हाल ही में एक प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए गया था. वह इडुक्की जिले में स्थित थोडुपुज़ा के कॉलेज में पढ़ता है.

रिपोर्ट में खुलासा, निपाह वारयस के मुख्य कारण चमगादड़ नहीं हैं

टिप्पणियां

त्रिशूर की जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ रीना के मुताबिक, वह छह लोगों के साथ सीधे संपर्क में था. उन्हें निगरानी में रखा गया है. उन्होंने कहा कि इसके अलावा छात्र से संपर्क करने वाले लोगों पर भी नजर रखी जा रही है. वह छात्र सिर्फ चार दिन ही त्रिशूर में था और उसे बुखार आ रहा था. इडुक्की जिले के चिकित्सा अधिकारियों ने कहा कि थोडुपुज़ा के जिस कॉलेज में छात्र पढ़ता है उसे भी निगरानी में रखा गया है. सरकार के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल मई में निपाह संक्रमण से 17 लोगों की मौत हुई थी.

VIDEO: कैसे निपटें निपाह वायरस से?

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement