NDTV Khabar

नीरव मोदी के वकील का दावा- 'नीरव मोदी फरार नहीं, व्यवसाय के सिलसिले में विदेश गये हैं'

सीबीआई अब तक मामले में कुल 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. जिसमें सबसे बड़ा नाम विपुल अंबानी का है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीरव मोदी के वकील का दावा- 'नीरव मोदी फरार नहीं, व्यवसाय के सिलसिले में विदेश गये हैं'

नीरव मोदी (फाइल फोटो)

मुंबई:

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के प्रमुख आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी काफी समय से फरार हैं लेकिन नीरव मोदी के वकील का दावा है कि वो फरार नहीं, बल्कि व्यवसाय के सिलसिले में विदेश में है. इस बीच सीबीआई अब तक मामले में कुल 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. जिसमें सबसे बड़ा नाम विपुल अंबानी का है. 

एक तरफ छापेमारी, जब्ती और गिरफ्तारी के जरिये जांच एजेंसियां नीरव मोदी पर शिकंजा कसने में जुटी हैं तो दूसरी तरफ इस कार्रवाई से सैकड़ो लोग बेरोजगर हो गए हैं. मोदी की कंपनी में सीनियर एक्जीक्यूटिव पद पर काम करने वाले और अब सीबीआई की गिरफ्त में का चुके अर्जुन पाटिल की पत्नी ने आरोप लगाया है कि घोटाला करने वाला विदेश भाग गया और सीबीआई गरीब, नौकरी करने वालों को जेल में डाल रही है. अब तक 2800 के करीब कर्मचारियों की नौकरी छीन गई है. छोटे कर्मचारियों का क्या दोष वो तो सिर्फ नौकरी कर रहे थे.

यह भी पढ़ें - PNB घोटाला: नीरव मोदी की कंपनी के सीनियर अधिकारी विपुल अंबानी सहित 5 लोग CBI की गिरफ्त में


हालांकि, नीरव मोदी के वकील विजय अग्रवाल उनके आरोपी पति और दूसरी एक और गिरफ्तार महिला कर्मचारी के लिए अदालत में हाजिर थे. दिल्ली से मुंबई आये वकील विजय अग्रवाल ने अदालत में जहां दोनों की गिरफ़्तारी के तरीकों पर सवाल उठाया, वहीं अदालत के बाहर एनडीटीवी से बात करते हुए ये भी दावा किया कि नीरव मोदी फरार नही है, वो तो व्यवसाय के सिलसिले में विदेश गये हैं.

इस बीच मंगलवार को देर शाम गिरफ्तार नीरव मोदी के फायर स्टार ग्रुप के प्रेसिडेंट विपुल अंबानी ने भी अपनी गिरफ्तारी को गलत बताया. मामले में आरोपी विपुल अंबानी के वकील अमित देसाई ने अदालत को बताया कि विपुल अंबानी घोटाले के बारे में कूछ नहीं जानते. लेकिन सीबीआई का दावा है कि फायर स्टार के पेनिनसुला दफ़्तर से ढेरो ऐसे दस्तावेज मिले हैं जो उन एलओयू से सम्बंधित है, जिनके जरिये विदेशो में करोड़ों का ट्रांजेक्शन हुआ. यहां तक कि उनका पंजाब नेशनल बैंक के ब्रांच से लेकर जोनल ऑफिस और हेड ऑफिस से भी संपर्क थे.

यह भी पढ़ें - PNB घोटाला: यशवंत सिन्हा ने वित्त मंत्री अरुण जेटली से पूछे ये 10 सवाल

टिप्पणियां

मामले में सबसे पहले गिरफ्तार पी एन बी की ब्रेडी हाउस ब्रांच के पूर्व डेप्यूटी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने सीबीआई को बताया है कि उन्होंने वही किया जो पहले से चल रहा था. शेट्टी के उसी बयान के आधार पर सीबीआई ने बैंक के जनरल मैनेजर राजेश जिंदल को भी गिरफ्तार किया और ये पता करने में जुटी है कि फर्जी एनओयू के सिलसिले की शुरुआत क्या 2011 से भी पहले से हो गई थी? 

VIDEO: पीएनबी घोटाले से एक बार फिर सामने आया हमारी बैंकिंग व्यवस्था में निगरानी का स्तर



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement