Nirbhya Case: क्यों उलझा हुआ है यह मामला, आखिर कब होगी दोषियों को फांसी?

अभी विनय, अक्षय और पवन ने दया याचिका नहीं लगाई है, अक्षय और पवन ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका भी दाखिल नहीं की है

Nirbhya Case: क्यों उलझा हुआ है यह मामला,  आखिर कब होगी दोषियों को फांसी?

निर्भया गैंग रेप और हत्या के मामले में दिल्ली में हुए विरोध प्रदर्शन की फाइल फोटो.

खास बातें

  • निर्भया मामले के दोषी खेल रहे हैं संवैधानिक सिस्टम से
  • अगर सभी की दया याचिकाएं अलग-अलग दाखिल हों तो?
  • अलग-अलग खारिज होने तक फांसी में 56 दिन लग जाएंगे
नई दिल्ली:

निर्भया केस (Nirbhaya Case) एक उलझा हुआ मामला है, आखिर कब होगी दोषियों को फांसी? कैसे दोषी खेल रहे हैं सिस्टम से! फिलहाल एक दोषी मुकेश ने ही राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाई जिसे खारिज कर दिया गया. इसके चलते ट्रायल कोर्ट ने अब 22 जनवरी के डेथ वारंट को रद्द कर 1 फरवरी की तारीख दी है. अभी विनय, अक्षय और पवन ने दया याचिका नहीं लगाई है. अक्षय और पवन ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका भी दाखिल नहीं की है. यानी तीन दोषियों के पास राष्ट्रपति के पास दया याचिका का संवैधानिक अधिकार मौजूद है. जबकि दो दोषियों के पास क्यूरेटिव याचिका का आखिरी कानूनी उपचार बाकी है.

चूंकि राष्ट्रपति ने मुकेश की दया याचिका खारिज की है तो सुप्रीम कोर्ट के शत्रुघ्न चौहान फैसले के मुताबिक मौत की सजा देने के लिए कम से कम 14 दिन दिए जाने चाहिए. वैसे वो राष्ट्रपति के फैसले को भी चुनौती दी जा सकती है. बाकी तीन दोषी अलग-अलग दया याचिकाएं दाखिल कर सकते हैं.

अगर सभी की दया याचिका अलग- अलग खारिज हो जाएं, तो इस हिसाब से फांसी देने में 14-14 दिन मिलाकर 56 दिन हो जाएंगे. इसके बाद वो चार आधारों का हवाला देकर राष्ट्रपति के फैसले को भी चुनौती दे सकते हैं. इसके लिए क्या दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल हो या सीधे सुप्रीम कोर्ट में? ये सवाल भी बरकरार है.

Nirbhaya Case: अदालत ने नया डेथ वारंट जारी किया, चारों दोषियों को 1 फरवरी को दी जाएगी फांसी

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया गैंग रेप और हत्या के मामले में चारों दोषियों के लिए शुक्रवार को नया डेथ वारंट जारी कर दिया. चारों दोषियों को 1 फरवरी को फांसी देने के का डेथ वारंट जारी किया गया. फांसी 1 फरवरी को सुबह 6 बजे दी जाएगी.  

निर्भया केस में एक और मोड़: दोषी पवन ने SC में याचिका दाखिल कर हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौती

निर्भया गैंगरेप और मर्डर मामले में तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार को खत लिखकर फांसी की नई तारीख मांगी थी. जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार से दया याचिका के निपटारे तक फांसी की तारीख टालने को कहा था. निर्भया केस के दोषी मुकेश की डेथ वारंट को चुनौती देने वाली याचिका पर गुरुवार और शुक्रवार को पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई. तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार को फांसी टालने के लिए गुरुवार को पत्र लिखा था. उसने कहा था कि दया याचिका पर निपटारे तक फांसी टाली जाए. पटियाला हाउस कोर्ट ने जेल प्रशासन से इस संबंध में रिपोर्ट मांगी थी जो कि आज कोर्ट के सौंपी गई.

राष्ट्रपति ने खारिज की निर्भया केस के दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका

मामले में शुक्रवार को सुनवाई के बाद कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी कर दिया. निर्भया मामले में चारों दोषियों विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह और पवन गुप्ता को 1 फरवरी को तिहाड़ जेल में सुबह छह बजे फांसी दी जाएगी.

Nirbhaya Case : चारों दोषियों को तिहाड़ जेल नंबर तीन में शिफ्ट किया गया, यहीं है फांसी कोठी

VIDEO : फांसी टलने के आसार बनने पर उदास हुईं निर्भया की मां

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com