फंदे पर लटकने से पहले विनय ने अपनी बनाई इस पेंटिंग को घरवालों को देने की जताई थी इच्छा

विनय ने बताया कि उसने जो पेंटिंग बनाई से उसके घरवालों को दे दिया जाए. वहीं विनय फांसी से थोड़ी देर पहले गिड़गिड़ाकर कहने लगा कि वह मरना नहीं चाहता है. मुकेश और विनय ने रात में खिचड़ी खाई थी. वहीं पवन और अक्षय रात भर बेचैन रहे.

फंदे पर लटकने से पहले विनय ने अपनी बनाई इस पेंटिंग को घरवालों को देने की जताई थी इच्छा

चारों दोषियों को फांसी की सजा दे दी गई है

नई दिल्ली:

निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले के चारों दोषियों ने फांसी दिए जाने से पहले कोई आखिरी इच्छा जाहिर नहीं की थी. अधिकारी ने कहा, 'दोषियों ने अधिकारियों के समक्ष कोई आखिरी इच्छा जाहिर नहीं की थी.' फांसी दिए जाने से पहले उनसे उनकी आखिरी इच्छा पूछी गई थी. जेल की नियामवली के अनुसार अधीक्षक और जिला मजिस्ट्रेट या अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में कैदी की वसीयत सहित किसी भी दस्तावेज पर हस्ताक्षर कराए जा सकते हैं या उसे संलग्न किया जा सकता है. हालांकि मुकेश ने यह बात जरूर कही कि उसकी मौत के बाद अंगदान कर दिए जाएं. वहीं विनय ने बताया कि उसने जो पेंटिंग बनाई से उसके घरवालों को दे दिया जाए. वहीं विनय फांसी से थोड़ी देर पहले गिड़गिड़ाकर कहने लगा कि वह मरना नहीं चाहता है. मुकेश और विनय ने रात में खिचड़ी खाई थी. वहीं पवन और अक्षय रात भर बेचैन रहे.

क्या थी विनय पेंटिंग

gkpge1ag
जेल में रहते हुए विनय ने कुछ पेटिंग भी बनाई थी.  तिहाड़ हाट में उसकी पेंटिंग्स की बिक्री भी हुई.  विनय ने  11 और पेंटिंग बनाई थीं और 19 पन्नों की 'दरिंदा' डायरी भी लिखी थी.  जेल प्रशासन ने दोषी विनय की पेटिंग और उसकी डायरी दरिंदा को भी कोर्ट में भी पेश किया था. इसके बाद कोर्ट ने तिहाड़ जेल से कहा कि सभी दस्तावेज दोषियों को दे दिए जाएं. इस पर जेल प्रशासन ने कहा कि सभी दस्तावेद सौंप दिए गए हैं और इसके साथ ही इस अर्जी का निपटारा हो गया. 

Newsbeep

फंसी से पहले विनय खूब रोया
फंदे पर लटकाने से पहले जब दोषियों को नहाने और कपड़े बदलने के लिए कहा गया, तो दोषी विनय ने कपड़े बदलने से इनकार कर दिया. इसके अलावा उसने रोना शुरू कर दिया और माफी मांगने लगा. सुबह नए कपड़े पहनने को दिए जाते हैं. विनय ने नए कुर्ता-पैजामा पहनने से मन कर दिया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को एक महिला के साथ हुए सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले के चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दे दी गई. जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने यह जानकारी दी. पूरे देश की आत्मा को झकझोर देने वाले इस मामले के चारों दोषियों... मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को सुबह साढ़े पांच बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी गई. दक्षिण एशिया के सबसे बड़े जेल परिसर तिहाड़ जेल में पहली बार चार दोषियों को एक साथ फांसी दी गई.