Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

हिंदी भाषा पर नहीं थम रहा विवाद, साउथ इंडिया के कई नेताओं ने किया विरोध, यहां जानिए पूरा मामला

गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली शिक्षा नीति के मसौदे पर विवाद जारी है. रविवार को केंद्र सरकार ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि किसी भी राज्य पर हिंदी थोपी नहीं जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हिंदी भाषा पर नहीं थम रहा विवाद, साउथ इंडिया के कई नेताओं ने किया विरोध, यहां जानिए पूरा मामला

खास बातें

  1. हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली शिक्षा नीति के मसौदे पर विवाद
  2. निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने किया सरकार का बचाव
  3. कहा- ड्राफ्ट को अमल में लाने से पहले इसकी समीक्षा की जाएगी
नई दिल्ली:

गैर हिंदी भाषी राज्यों में हिंदी पढ़ाने का प्रस्ताव देने वाली शिक्षा नीति के मसौदे पर विवाद जारी है. रविवार को केंद्र सरकार ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि किसी भी राज्य पर हिंदी थोपी नहीं जाएगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) और विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने इस मामले में अपने ट्विटर पर संदेश प्रसारित किए और यह भरोसा दिलाया कि इस ड्राफ्ट को अमल में लाने से पहले इसकी समीक्षा की जाएगी. मोदी सरकार के ये दोनों ही मंत्री तमिलनाडु से हैं.

गौरतलब है कि तमिलनाडु इस मामले में सबसे ज्यादा विरोध दर्ज करवा रहा है. इसलिए मोदी सरकार के मंत्रियों ने यह ट्वीट तमिल में किए. उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने भी लोगों से अपील की थी कि वह नयी शिक्षा नीति के मसौदे का अध्ययन, विश्लेषण और बहस करें लेकिनजल्दबाजी में किसी नतीजे पर ना पहुंचें. 

हिंदी भाषा विवाद: राज ठाकरे की पार्टी MNS के नेता का बयान- 'हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, हमारे माथे पर मत थोपो...'


हालांकि दक्षिण भारत के नेताओं द्वारा इस मसौदे को लेकर विरोध के सुर लगातार बढ़ते जा रहे हैं. पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और डीएमके नेता एमके स्टालिन के बयानों के बाद अब कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी और कांग्रेस नेता शशि थरूर हिंदी को दक्षिण भारत पर थोपने के खिलाफ चेतावनी जारी कर रहे हैं. जिसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट किया, 'जनता की राय सुनने के बाद ही ड्राफ्ट पॉलिसी लागू होगी. सभी भारतीय भाषाओं को पोषित करने के लिए ही पीएम ने एक भारत श्रेष्ठ भारत योजना लागू की थी. केंद्र तमिल भाषा के सम्मान और विकास के लिए समर्थन देगा. 

'हिंदी विवाद' पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- कोई भी भाषा थोपी नहीं जाएगी

वहीं एएनआई के मुताबिक शशि थरूर ने कहा था, 'दक्षिण में कई जगह हिंदी दूसरी भाषा के तौर पर प्रयोग की जाती है लेकिन उत्तर में कोई मलयालम या तमिल नहीं सीख रहा है.' इस मामले में बीजेपी नेता तेजस्वी सूर्या ने कहा था, 'इस पॉलिसी को साउथ के छात्रों को हिंदी सीखने का प्रोत्साहन मिलेगा. अगर एनईपी लागू नहीं होता तो भी स्कूलों में हिंदी सीखने को बढ़ावा मिलना चाहिए.'

टिप्पणियां

नई शिक्षा नीति के मसौदे में हिंदी को शामिल करने पर तमिलनाडु में उबाल, विरोध शुरू

Video: नई शिक्षा नीति 2019 : दक्षिण में विरोध



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... IND vs AUS: अजीबोगरीब तरह से आउट हुईं हरमनप्रीत कौर, देखकर कीपर ने पकड़ लिया सिर, देखें Video

Advertisement