Budget 2020: गले में तकलीफ के कारण पूरा बजट नहीं पढ़ सकीं निर्मला सीतारमण, फिर दिया अब तक का सबसे लंबा भाषण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में अब तक कई बड़े ऐलान किए हैं.  वित्त मंत्री ने  टैक्‍स स्‍लैब में बड़े बदलाव का ऐलान किया है.

Budget 2020: गले में तकलीफ के कारण पूरा बजट नहीं पढ़ सकीं निर्मला सीतारमण, फिर दिया अब तक का सबसे लंबा भाषण

निर्मला सीतारमण ने राज्यसभा जाकर सदन के पटल पर रखे बजट से जुड़े कागज.

खास बातें

  • 2 घंटे 39 मिनट तक चला बजट भाषण
  • भाषण के बीच में 3 बार पिया वित्त मंत्री ने पानी
  • गडकरी ने दी टॉफी लेकिन नहीं बनी बात
नई दिल्ली:

लोकसभा में शनिवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बजट पेश करते हुए ढाई घंटे से अधिक समय तक बोलती रहीं लेकिन इसके बावजूद भी बजट भाषण पूरा नहीं पढ़ा जा सका. दरअसल निर्मला सीतारमण अस्वस्थ्य होने के बजट भाषण के कुछ पन्ने नहीं पढ़ सकीं.  उन्होंने आज वित्त वर्ष 2020-21 (Budget 2020-21) का बजट भाषण दो घंटे 39 मिनट तक पढ़ा. बजट भाषण पढ़ते समय तक उनकी तबियत कुछ खराब हुई तब उन्होंने तीन बार पानी पिया. हालांकि इससे कुछ फायदा नहीं हुआ. तब सदन में विपक्ष के सदस्यों ने उनसे बजट दस्तावेज सभापटल पर रखने का आग्रह किया. इस पर सीतारमण ने कहा कि सिर्फ दो पन्ने बचे हैं. वित्त मंत्री ने दोबारा बजट पढ़ने का प्रयास किया लेकिन वे ठीक से नहीं पढ़ पा रही थीं.

बजट 2020-21 से किसे क्या मिला? पढ़ें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के ये 8 बड़े ऐलान

सदन में पास ही बैठे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से कुछ कहा. इसके बाद गडकरी ने टॉफी निकाल कर सीतारमण को दी लेकिन इसके बाद भी उन्हें बजट भाषण पढ़ने में परेशानी होने पर कुछ केंद्रीय मंत्रियों ने बजट दस्तावेज सभा पटल पर रखने का आग्रह किया. इसके बाद वित्त मंत्री ने लोकसभा अध्यक्ष की अनुमति से बजट भाषण सभा पटल पर रख दिया. बाद में वित्त मंत्री सीतारमण राज्यसभा गयीं और बजट से जुड़े कागजात सदन की पटल पर रखे. 

Newsbeep

बजट में सरकार का बड़ा ऐलान- बेचेगी LIC का बड़ा हिस्सा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में अब तक कई बड़े ऐलान किए हैं.  वित्त मंत्री ने  टैक्‍स स्‍लैब में बड़े बदलाव का ऐलान किया है. 5 से 7.5 लाख रुपये तक की आमदनी पर 10 फीसदी टैक्‍स देना होगा, इसके साथ ही 7.5 से 10 लाख रुपये तक की आमदनी पर 15 फीसदी, 10 से 12.5 लाख रुपये की आमदनी पर 20 फीसदी टैक्‍स, 12.5 से 15 लाख रुपये की आमदनी पर 25 फीसदी और 15 लाख से ऊपर की आमदनी पर 30 फीसदी टैक्‍स देना होगा.