NDTV Khabar

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गोलाबारूद की कमी बताने वाली सीएजी की रिपोर्ट को किया खारिज

उन्होंने कहा कि जिम्मेदारी संभालने के बाद इस मुद्दे पर सेना के अधिकारियों से बात की है और भारतीय सेना के पास हथियारों की कोई कमी नहीं है.

467 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गोलाबारूद की कमी बताने वाली सीएजी की रिपोर्ट को किया खारिज

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने उत्तरलाई एयरफोर्स बेस का दौरा किया.

खास बातें

  1. रक्षा मंत्री ने कहा- सेना किसी भी परस्थिति से निपटने को तैयार
  2. सेना प्रमुख के बयान पर बोलने से किया इनकार
  3. सेना को मजबूत करने के हर संभव कदम उठाए जाएंगे
नई दिल्ली: देश की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सीएजी की उस रिपोर्ट को पूरी तरह से खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि सेना के पास गोलाबारूद की कमी है. उन्होंने कहा कि जिम्मेदारी संभालने के बाद इस मुद्दे पर सेना के अधिकारियों से बात की है और भारतीय सेना के पास हथियारों की कोई कमी नहीं है. रक्षामंत्री ने कहा कि सेना के लिए हथियारों और संसाधनों की खरीद प्रक्रिया एक सामान्य प्रक्रिया है.  उन्होंने कहा कि वह सिर्फ इतना कहना चाहती हूं कि भारत किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है. 

पढ़ें : रक्षामंत्री बनने के बाद निर्मला सीतारमण का बड़ा फैसला, सैन्य पुलिस में शामिल होंगी 800 महिलाएं

एक दिवसीय बाड़मेर दौरे पर आई रक्षा मंत्री ने पश्चिमी सीमा के उत्तरलाई वायुसेना स्टेशन पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि यह चुनना सही नहीं होगा कि भारत को पाकिस्तान और चीन में से बड़ा खतरा किससे है. उन्होंने कहा, 'मैं सिर्फ इतना ही कहूंगी कि भारत हरस्थिति से निपटने के लिये तैयार है.' थल सेना प्रमुख के हालिया बयान पर टिप्पणी करने से इनकार करते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि वे युद्ध के बारे में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहेंगी, जिसमें उन्होंने देश को दोनों मोर्चो- पाकिस्तान और चीन से युद्ध के लिये तैयार रहने की बात कही है. उन्होंने कहा कि उनकी प्राथमिकता रहेगी कि सैन्य तैयारियों में कोई कमी नहीं रहे और भारतीय सेना को और ज्यादा मजबूती प्रदान करने की दिशा में हरसंभव कदम उठाए जाएंगे. 

टिप्पणियां
वीडियो : नई रक्षा मंत्री के सामने हैं कई चुनौतियां
सीतारमण ने कहा कि पदभार संभालने के बाद उन्होंने सैन्य अधिकारियों, विशेषज्ञों से कई दौर की मुलाकात की है और उसके बाद इस बारे में प्रधानमंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से भी मिली है. उन्होंने कहा कि सैन्य तैयारी उनकी पहली और सर्वोच्च प्राथमिकता रहेगी और सेनाओं के लिये संसाधनों और हथियारों की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी.

इनपुट : भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement