NDTV Khabar

...जब संसद में बोले गडकरी- मेरे ड्राइवर को मोतियाबिंद था, एक CM के ड्राइवर को तो दिखता ही नहीं था वह आवाज सुनकर गाड़ी चलाता था

गडकरी ने सदन में ‘मोटर यान (संशोधन) विधेयक-2019’ चर्चा और पारित कराने के लिए रखते हुए कहा कि मौजूदा मोटरयान कानून 30 साल पुराना है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...जब संसद में बोले गडकरी- मेरे ड्राइवर को मोतियाबिंद था, एक CM के ड्राइवर को तो दिखता ही नहीं था वह आवाज सुनकर गाड़ी चलाता था

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी.

खास बातें

  1. गडकरी बोले- भारत में 30% ड्राइविंग लाइसेंस फर्जी
  2. ‘मोटर यान (संशोधन) विधेयक-2019’ पर चर्चा के दौरान कही बात
  3. कहा- मौजूदा मोटरयान कानून 30 साल पुराना
नई दिल्ली:

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को स्वीकार किया कि देश में पिछले पांच साल में सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने में उनके विभाग को सफलता नहीं मिली है और उन्होंने उम्मीद जताई कि मोटर यान संशोधन विधेयक पारित होने के बाद सड़क हादसों से लोगों की जान बचाने में मदद मिलेगी. गडकरी ने सदन में ‘मोटर यान (संशोधन) विधेयक-2019' चर्चा और पारित कराने के लिए रखते हुए कहा कि मौजूदा मोटरयान कानून 30 साल पुराना है. लोगों को बहुत असुविधाएं हो रही हैं. भ्रष्टाचार की बहुत शिकायतें आई हैं. ऐसे में इस संशोधन विधेयक की जरूरत पड़ी. 

गडकरी ने कहा कि यह एक आम धारणा है कि आधिकारिक मशीनरी के सही से काम नहीं करने की वजह से भारत में ड्राइविंग लाइसेंस पाना सबसे आसान है. मंत्री ने सरकारी विभागों में ड्राइवरों की नियुक्तियों में ढिलाई दिखाने के लिए खुद का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्हें महाराष्ट्र में एक सड़क दुर्घटना का सामना करना पड़ा क्योंकि उनके चालक को एक आंख में मोतियाबिंद था, जिसकी वजह से वह उस आंख से साफ नहीं देख पाते थे. उन्होंने कहा कि एक मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि उनका ड्राइवर दोनों आंखों से नहीं देख सकता था. वह सुनने की शक्ति पर भरोसा करके गाड़ी चलाता था.

सड़क हादसों पर नियंत्रण के लिये तमिलनाडु मॉडल अपनायेगी केंद्र सरकार : नितिन गडकरी


उन्होंने आश्वासन दिया कि राज्यों को किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं हैं. उनके अधिकार क्षेत्र में कोई दखल नहीं दिया जाएगा. मंत्री ने कहा कि लाइसेंस और वाहनों के पंजीकरण की व्यवस्था को ऑनलाइन किया गया है जिससे भ्रष्टाचार पर पूरी तरह लगाग लग सकेगी. उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से पूरा प्रयास करने के बावजूद सड़क हादसों में होने वाली मौतों में तीन-चार फीसदी की कमी आई हैं. मैं इसमें विफल रहा हूं, यह स्वीकार करता हूं. यह विधेयक पारित होने से इन हादसों में होने वाली मौतों में बहुत कमी आएगी.

साथ ही गडकरी ने कहा कि पिछड़े जिलों में ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर खोला जाएगा और इसके लिए उनका मंत्रालय एक करोड़ रुपये की मदद देगा. उन्होंने कहा कि 2017 में यह विधेयक लोकसभा में पारित हुआ, लेकिन मुझे इस बात का दुख है कि यह राज्यसभा में पारित नहीं हो पाया. गडकरी ने लोकसभा से मोटरयान संशोधन विधेयक पारित करने की अपील करते हुए कहा कि परिवहन व्यवस्था में व्यापक सुधार के लिए राष्ट्रीय परिवहन नीति बनाई जा रही है. 

17 लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं को अवार्ड किया गया, एक भी रुपये का भ्रष्टाचार नहीं हुआ : नितिन गडकरी

विधेयक के उद्देश्यों एवं कारणों में कहा गया है कि सड़क दुर्घटनाओं में वृद्धि, यातायात के नियमों और विनियमों आदि की अवहेलना के कारणों के मद्देनजर मंत्रालय में विभिन्न पक्षकारों से शिकायतों एवं सुझाव प्राप्त हुए . ऐसे में सड़क सुरक्षा और परिवहन प्रणाली में सुधार करने के लिये मोटर वाहन अधिनियम 1988 में तुरंत संशोधन की जरूरत महसूस हुई ताकि परिवहन क्षेत्र में सुरक्षा और दक्षता के मुद्दों का समाधान किया जा सके. 

प्रस्तावित मोटर यान संशोधन विधेयक 2019 सड़क सुरक्षा, नागरिकों की सुविधा, सार्वजनिक परिवहन को सुदृढ़ बनाने, स्वचालन और कंम्प्यूटरीकरण से संबंधित मुद्दों का समाधान करने के लिये है. इसमें कहा गया है कि दुर्घटना से पीड़तों और उनके परिवार को तुरंत सहायता उपलब्ध कराने के लिये सरल उपबंधों के साथ बीमा के विद्यमान उपबंधों को प्रतिस्थापित किया जायेगा. चालन अनुज्ञप्ति के नवीनीकरण के लिये समयसीमा की समाप्ति की तारीख से पूर्व और उसके बाद एक मास बढ़ाकर एक वर्ष करने की बात कही गई है तथा परिवहन अनुज्ञप्तियों के नवीनीकरण की अवधि को तीन वर्ष बढ़ाकर पांच वर्ष करने की बात कही गई है.

दिल्ली की ये सड़क होगी 'सिग्नल मुक्त', रिकॉर्ड 112 दिन के भीतर ही बना डाला

विधेयक पर चर्चा की शुरूआत करते हुए कांग्रेस के एंटो एंटनी ने कहा कि सरकार इस विधेयक के माध्यम से यातायात सुरक्षित करने की बात कर रही है लेकिन वह परिवहन के मामले में राज्यों के अधिकार लेना चाहती है. उन्होंने कहा कि सरकार राष्ट्रीय परिवहन नीति के नाम पर निजी क्षेत्रों की भागीदारी बढ़ाना चाहती है और परिवहन क्षेत्र का निजीकरण करना चाहती है. प्रस्तावित नीति के गंभीर परिणाम होंगे और देशभर के राज्य परिवहन निगम इससे प्रभावित होंगे.

(इनपुट- एजेंसियां)

टिप्पणियां

सड़क दुर्घटनाओं में कमी न आने पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा- यह मेरे विभाग की सबसे बड़ी विफलता, मैं स्वीकार करता हूं

VIDEO: लोकसभा में पेश हुआ मोटर व्हिकल एक्ट से जुड़ा संशोधन बिल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement