नीतीश कुमार ने फिर कहा- कृषि बिल के बारे में अनावश्यक ग़लतफ़हमी पैदा की जा रही है

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने छह महीने से अधिक समय के बाद गुरुवार को पटना में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कुछ सवालों का जवाब दिया. उन्होंने कृषि बिल (Agricultural Bill) पर फिर विपक्ष के ऊपर आरोप लगाया कि इसके बारे में अनावश्यक ग़लतफ़हमी पैदा की जा रही है.

नीतीश कुमार ने फिर कहा- कृषि बिल के बारे में अनावश्यक ग़लतफ़हमी पैदा की जा रही है

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar)- फाइल फोटो

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने छह महीने से अधिक समय के बाद गुरुवार को पटना में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कुछ सवालों का जवाब दिया. उन्होंने कृषि बिल (Agricultural Bill) पर फिर विपक्ष के ऊपर आरोप लगाया कि इसके बारे में अनावश्यक ग़लतफ़हमी पैदा की जा रही है. नीतीश कुमार पिछले तीन दिनों से पार्टी दफ्तर में पार्टी के उन कार्यकर्ताओं और नेताओं से मिलते हैं जिन्होंने उनसे हाल के दिन में समय मांगा था.

बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे ने पूछा- अगर राजनीति में आऊं तो क्या नुकसान?

वहीं नीतीश ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि जहा तक कृषि बिल पर विरोध का सवाल है, 2006 में आपको मालूम है जो हम लोगों ने किया था, इसके चलते अनाज का प्रोक्योरमेंट वग़ैरह बहुत सुधरा.

आप देख रहे हैं सालों से जो सब कुछ हो ही रहा है, जो पैक्स हैं, उसको इतना हम लोग सुदृढ़ किए. इसलिए बिहार की स्थिति सुधरी और उससे पहले लोगों को अपने अनाज और सामान पहले कहां लिया जाता था. उनके अनुसार बिहार में जो कुछ पहले हुआ उसी रास्ते पर देश भर में भी सुधार हो रहा है, और पूरे देश में अनावश्यक ग़लतफ़हमी पैदा की जा रही है.

हालांकि पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने नीतीश कुमार के इस सुधार के सम्बंध में एक अध्ययन को आधार बनाकर ट्वीट किया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बिहार चुनाव: नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के सामने तेजस्वी यादव की हैं ये पांच चुनौतियां

पार्टी दफ़्तर में कार्यकर्ताओं से मिलने के कार्यक्रम के बारे में नीतीश ने कहा कि चुनाव आने पर हम सभी लोगों से ऐसे ही मिलते हैं, क्षेत्र वग़ैरह का आइडिया भी लेते हैं. आप जानते हैं वर्षों से हम जितना दिन यहां रहेंगे यहां आते रहेंगे.