NDTV Khabar

पाकिस्तान को भारत की दो टूक, सरहद पर जनाजों के बीच बात नहीं

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि जब सीमा पर जनाजे उठ रहे हों तो बातचीत की आवाज अच्छी नहीं लगती.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान को भारत की दो टूक, सरहद पर जनाजों के बीच बात नहीं

सरकार के चार साल पूरे होने पर संवाददाताओं से बातचीत करतीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज.

खास बातें

  1. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पाकिस्तान को खरी-खरी
  2. सुषमा स्वराज ने कहा-आतंकवाद और बात साथ-साथ नहीं
  3. कहा-सरहद पर जनाजों के बीच बात अच्छी नहीं लगती
नई दिल्ली:

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान जब तक आतंकवाद का मार्ग नहीं छोड़ता, उसके साथ समग्र वार्ता नहीं हो सकती है. नरेंद्र मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर विदेश मंत्री ने कहा, 'हम पाकिस्तान से वार्ता के लिए हमेशा तैयार हैं, लेकिन आतंकवाद एवं वार्ता साथ साथ नहीं चल सकते. पाकिस्तान जबतक आतंकवाद का मार्ग नहीं छोड़ता, उसके साथ समग्र वार्ता नहीं हो सकती.' उन्होंने कहा, 'जब सीमा पर जनाजे उठ रहे हों तो बातचीत की आवाज अच्छी नहीं लगती.'

यह भी पढ़ें : आतंकवाद पर बोले राजनाथ सिंह: हम पड़ोसी देशों को रिश्तेदार मानते हैं, मगर 'एक' हमारी बात नहीं सुनता

वह इस सवाल का जवाब दे रही थीं कि क्या पाकिस्तान में आम चुनाव के बाद भारत-पाकिस्तान वार्ता हो सकती है? हालांकि उन्होंने माना कि भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार आतंकवाद के विषय पर बातचीत करते हैं. विदेश मंत्री ने गिलगिट-बाल्टिस्तान पर प्रशासनिक नियंत्रण के संबंध में पाकिस्तान के 'गिलगिट-बाल्टिस्तान आदेश, 2018' को लेकर भी उस पर हमला किया और कहा कि पाकिस्तान हमेशा इतिहास के साथ छेड़छाड़ करता है.


यह भी पढ़ें : पाक थलसेना प्रमुख ने कहा- कश्मीर मुद्दे को लेकर हमें भारत से बातचीत करनी चाहिए  

सुषमा स्वराज ने कहा, 'पाकिस्तान हमें इतिहास और भूगोल पढ़ाने का प्रयास करता है. यही वह देश है जो कानून के शासन में यकीन नहीं करता और मैं उसके जवाब के लिए बस एक बात कहूंगी 'देखिए कौन बोल रहा है.' पाकिस्तान के मंत्रिमंडल ने गिलगिट-बाल्टिस्तान आदेश, 2018 को 21 मई को मंजूरी दी थी, जिसे उस क्षेत्र की एसेम्बली भी अनुमोदित कर चुकी है. इस आदेश को इस विवादित क्षेत्र को पाकिस्तान के पांचवें प्रांत के रूप में शामिल करने की उसकी कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. 

VIDEO : रणनीति : शांति की बात और गोलीबारी भी साथ

टिप्पणियां

भारत ने एक दिन पहले नई दिल्ली में पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त सैयद हैदर को तलब किया था और पाकिस्तान के कदम पर कड़ा एतराज किया था. उसने कहा था कि उसके 'जबरन और अवैध कब्जे' वाले क्षेत्र के किसी भी हिस्से की स्थिति बदलने के किसी भी कदम का कोई कानूनी आधार नहीं है. आज पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर पर भारत के दावे को 'गलत' करार दिया और कहा कि यह इतिहास से लेकर जमीनी स्थिति तक हर चीज के विपरीत है.

(इनपुट : भाषा)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement