NPR के लिए दस्तावेज की जरूरत नहीं, किसी को नहीं बताया जाएगा संदिग्ध : अमित शाह

चर्चा में गृह मंत्री शाह ने विपक्षियों के सवालों के जवाब दिए. बीजेपी नेताओं पर दंगे भड़काने के आरोपों पर शाह ने विपक्ष को ही कठघरे में खड़ा कर दिया.

खास बातें

  • अमित शाह ने राज्यसभा में चर्चा में हिस्सा लिया
  • विपक्ष के सवालों के दिए जवाब
  • एनपीआर को लेकर अपनी बात रखी
नई दिल्ली:

राज्यसभा में गुरुवार को दिल्ली दंगों पर चर्चा की गई. चर्चा के दौरान गृह मंत्री ने साफ किया कि नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर के लिए किसी नागरिक को दस्तावेज नहीं दिखाना होगा. साथ ही किसी नागरिक को संदिग्ध की श्रेणी में नहीं रखा जाएगा. चर्चा में गृह मंत्री शाह ने विपक्षियों के सवालों के जवाब दिए. दिल्ली पुलिस की सराहना करते हुए शाह ने कहा कि 36 घंटों में दंगों से निपटना काबिले तारीफ है. शाह ने कहा कि दंगे के किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. बीजेपी नेताओं पर दंगे भड़काने के आरोपों पर शाह ने विपक्ष को ही कठघरे में खड़ा कर दिया. शाह ने बताया कि 24 फरवरी से पहले सरकार के पास सूचना आ चुकी थी कि दिल्ली हिंसा के लिए पैसे विदेश से आए हैं. पैसे दिल्ली में बांटे गए हैं. पैसो को लेकर जांच शुरू कर दी थी.

हालांकि जांच के दौरान दिल्ली में दंगों की शुरुआत हो गई. शाह ने कहा कि दिल्ली पुलिस जल्द इसकी घोषणा करेगी. शाह ने बताया कि मामले में पांच लोगों की गिरफ्तारी कर ली है. गृहमंत्री ने कहा कि इसी आधार पर मैंने कहा था कि षड्यंत्र किया गया है. शाह ने बताया कि मामले में हमने बहुत से अकाउंट पर कार्रवाई की है. शाह ने कहा कि दंगों के लिए फंडिंग करने वालों को हम पाताल से भी ढूंढ निकालेंगे.

अमित शाह ने कहा कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है. रतनालाल और अंकित शर्मा के हत्यारों को गिरफ्तार किया जाएगा. राज्यसभा में दिल्ली दंगों पर चर्चा का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जहां दंगे होने की संभावना थी वहां भी गृह मंत्रालय द्वारा पुलिस और सैन्य बलों को तैनात किया गया. सीएए को लेकर शाह ने कहा कि देश में अल्पसंख्यक समाज में सीएए को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा की गई. जबकि सीएए को लेकर हम कई बार सफाई दे चुके हैं. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com